Friday 28 Nov 2014Sign In   New Member: Sign Up  RSS


Home >News >> Religious
रामदेवरा - जहाँ गूँजती हैं श्रद्धा और विश्वास की स्वर लहरियाँ

      21 Sep 2007                 Add comment       Mail        Print       Write to Editor   

२१ सितम्बर, २००७ जिसके दर पर हिन्दू-मुसलमान दोनों ही श्रद्धा और आस्था से सिर नवाते हैं ऐसे देवता कम ही होंगे। परमाणु विस्फोट के कारण देश-विदेश में हलचल मचा देने वाला पोकरण इन दिनों ऐसी ही श्रद्धा, आस्था और विश्वास की स्वर लहरियों से गूँजता हुआ साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता का प्रतीक बना हुआ है।
पोकरण से १३ किलोमीटर दूर रामदेवरा में हिन्दू, मुस्लिम एकता एवं पिछडे वर्ग के उत्थान के लिए पहल कर क्रांतिकारी परिवर्तन लाने के लिए प्रसिद्ध संत बाबा रामदेव की श्रद्धा में डूबे लगभग ५ लाख अनुयाई भक्ति सागर में गोते लगा रहे हैं। देश में ऐसे अनूठे मंदिर कम ही हैं जो हिन्दू मुसलमान दोनों की आस्था के केन्द्र बिन्दु हैं। बाबा रामदेव का मंदिर इस दृष्टि से भी अनुपम है कि वहां बाबा रामदेव की मूर्ति भी है और मजार भी। यह मंदिर इस नजरिये से भी सैकडों श्रद्धालुओं को आकृष्ट करता है कि बाबा के पवित्रा राम सरोवर में स्नान से अनेक चर्मरोगों से मुक्ति मिलती है। इन्हीं रामसा पीर का वर्णन लोकगीतों में ’’आँध्यां ने आख्यां देवे म्हारा रामसापीर‘‘ कह कर किया जाता है। श्रद्धालु केवल आसपास के इलाकों से ही नहीं आते वरन् गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों से भी सैंकडों की संख्या में आते हैं। आधुनिक परिवहन सुविधाओं के बावजूद बीकानेर और जोधपुर जैसे इलाकों से १००-२०० किलोमीटर पैदल चल कर आने वाले भक्तजन भी आस्था की अलग ही कहानी कहते नजर आते हैं। प्रतिवर्ष भादवा शुक्ला द्वितीया से चलने वाला यह मेला भादवा शुक्ला एकादशी को सम्पन्न होता है। इस बार मेला २३ सितम्बर तक चलेगा। इन दिनों पैदल और वाहनों से सैंकडों यात्राी प्रतिदिन मेला स्थल पर पहुंच रहे हैं। बाबा रामदेव १४०९ विक्रम संवत की शुक्ल पंचमी को तोमर वंशीय अजमल जी और मैणादे के यहां जन्मे थे। किंवदन्ती है कि ये भगवान श्री कृष्ण का अवतार थे। श्रद्धालु इनके जन्म की कथा को कुछ यूँ बयान करते हैं। दिल्ली के शासक अनंगपाल के पुत्रा नहीं था। पृथ्वीराज चौहान उनकी पुत्राी का पुत्रा था। एक बार अनंगपाल तीर्थयात्राा को निकलते समय पृथ्वीराज चौहान को राजकाज सौंप गये। तीर्थयात्राा से लौटने के बाद पृथ्वीराज चौहान ने उन्हें राज्य पुनः सौंपने से इन्कार कर दिया। अनंगपाल और उनके समर्थक दुखी हो जैसलमेर की शिव तहसील में बस गये। इन्हीं अनंगपाल के वंशजों में अजमल और मेणादे थे। निसंतान अजमल दम्पत्ति श्री कृष्ण के अनन्य उपासक थे। एक बार कुछ किसान खेत में बीज बोने जा रहे थे कि उन्हें अजमल जी रास्ते में मिल गये। किसानों ने निसंतान अजमल को शकुन खराब होने की बात कह कर ताना दिया। दुखी अजमल जी ने भगवान श्री कृष्ण के दरबार में अपनी व्यथा प्रस्तुत की। भगवान श्री कृष्ण ने इस पर उन्हें आश्वस्त किया कि वे स्वयं उनके घर अवतार लेंगे। बाबा रामदेव के रूप में जन्में श्री कृष्ण पालने में खेलते अवतरित हुए और अपने चमत्कारों से लोगों की आस्था का केन्द्र बनते गये। लोक भावनाओं के अनुसार उन्होंने पीरों को उनके बर्तन मक्का मदीना से मंगवा कर चमत्कृत किया, भैरव राक्षस के आतंक से रामदेवरा के लोग को मुक्त कराया, बोयता महाजन के डूबते जहाज को बचाया। सगुना बाई के बच्चों को जीवित करना, अंधों को दृष्टि प्रदान करना और कोढयों को रोगमुक्त करना उनके अन्य चमत्कारों में से कुछ थे इसलिए आज भी लोग उनसे मनौतियाँ मांगते हैं और मनौती पूरी होने पर भेंट चढाते हैं। यहां माघ महिने में भी मेला भरता है जिसमें आस-पास के गांवों के लोग इकट्ठे होते हैं। रामदेवरा अथवा रूंणीचा धाम असल में रामदेव जी की कार्यस्थली रही है। यहीं उन्होंने रामसर तालाब खुदवाया, यहीं समाधि ली और अपने ३३ वर्ष के छोटे से जीवन में दीनदुखियों और पिछडे लोगों के कल्याण के लिए काम करके देवत्त्व प्राप्त किया। रामदेवरा किसी समय जोधपुर राज्य का गांव था जो जागीर में मंदिर को दे दिया गया था। इस गांव के ऐतिहासिक व प्रामाणिक तथ्य केवल यही तक ज्ञात हैं कि इसकी स्थापना रामदेवजी की जन्म तिथि और समाधि दिवस के मध्य काल में हुई होगी। वर्ष १९४९ से यह फलौदी तहसील का अंग बन गया और बाद में जैसलमेर जिले की पोकरण तहसील बन जाने पर उसमें शामिल कर दिया गया। रामदेव जी के विवाह की गाथा लोकगीतों में आती है पर संतान व अन्य तथ्यों की पुष्टि नहीं होती। इनका विवाह निहाल दे नामक महिला से हुआ था। डाली बाई और हरजी भाटी इनके अनन्य भक्तों में से थे। डालीबाई का मंदिर रूंणीचे में बाबा की समाधि के पास बना है। कहते हैं कि डालीबाई बाबा रामदेव को टोकरी में मिली थी। रामदेवजी के वर्तमान मंदिर का निर्माण १९३१ में बीकानेर के महाराजा श्री गंगासिंह जी ने करवाया था। इस पर उस समय ५७ हजार रुपये की लागत आई थी। भादवा शुक्ला द्वितीया से भादवा शुक्ला एकादशी तक भरने वाले इस मेले में सुदूर प्रदेशों के व्यापारी आकर हाट व दूकानें लगाते हैं। पैदल यात्रिायों के जत्थे हफ्तों पहले से बाबा की जय-जयकार करते हुए अथक परिश्रम और प्रयास से रूंणीचे पहुंचते हैं। लोकगीतों की गुंजन और भजन कीर्तनों की झनकार के साथ ऊँट लढ्ढे, बैलगाडयां और आधुनिक वाहन यात्रिायों को लाखों की संख्या में बाबा के दरबार तक पहुंचाते हैं। यहां कोई छोटा होता है न कोई बडा, सभी लोग आस्था, भक्ति और विश्वास से भरे, रामदेव जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करने पहुंचते हैं। यहां मंदिर में नारियल, पूजन सामग्री और प्रसाद की भेंट चढाई जाती है। मंदिर के बाहर और धर्मशालाओं में सैकडों यात्रियों के खाने-पीने का इंतजाम होता है। प्रशासन इस अवसर पर दूध व अन्य खाद्य सामग्री की व्यवस्था करता है। विभिन्न कार्यालय अपनी प्रदर्शनियां लगाते हैं। प्रचार साहित्य वितरित करते हैं और अनेक उपायों से मेलार्थियों को आकृष्ट करते हैं। मनोरंजन के अनेक साधन यहां उपलब्ध रहते हैं। श्रद्धासुमन अर्पित करने के साथ-साथ मेलार्थी अपना मनोरंजन भी करते हैं और आवश्यक वस्तुओं की खरीददारी भी। निसंतान दम्पत्ति कामना से अनेक अनुष्ठान करते हैं तो मनौती पूरी होने वाले बच्चों का झडूला उतारते हैं और सवामणी करते हैं। रोगी रोगमुक्त होने की आशा करते हैं तो दुखी आत्माएं सुख प्राप्ति की कामना और यू एक लोक देवता में आस्था और विश्वास प्रकट करता हुआ यह मेला एकादशी को सम्पन्न हो जाता है।




Comments On This Story
Our reader santosh raniwal Says baba ramdev ji bhgwan shree dwarkadhis shree krishna ji ke avtari h Un k jeeven se juda her parcha chmatkar sachha h use ksi k praman ke jarorat nahi hun ki saran m jo bhi jayga vo sach much apna jeevan safal ker lega JAI SHREE RAMAPIR KI JAI SHREE MASURYA VALE RAMDEV BABA KI Jai (2012-07-17 04:56:41)
Our reader jatin Says ramapeer ke neja ka arth kya hota hai muje bata sakte hai (2012-05-27 10:43:02)
Our reader Ajay singh Says Bolo baba RADEV GI KI JAI
(AJAY,NOHAR) (2012-05-24 10:23:12)
Our reader SHAKTI VARMA Says mhara naklan nejadhari sanvra tharo bharoso ghano bhari he o jeee.jai ho ajmalnandan RAMDEVJEE MAHARAAJ KI.JAI HO. (2012-05-07 11:43:02)
Our reader mohit chandravanshi Says bolo ajmal ghar avtar ki jai ho ramsa pir ki jai ho, runicha sarkar ki jai ho ,basoda dar bar ki jai ho. jai baba ki babo bhali karey (2012-04-05 02:27:31)
Our reader BASANT MIMROTH Says Bol ajmal ghar avtar ki jai , rani netal ki jai , maa daala bai ri jai , harzi bhati ki jai ho , pancho peer ki jai , ram sa peer ri jai. (2012-02-22 07:09:01)
Our reader Ajay singh malethia Ghoran wali Sirsa (Har) Says Jai baba Ram dav peer ke jai ho :
Bol Ajmal ghar Avtar ke jai ho (2012-02-01 01:39:49)
Our reader kanhaiya - odisha Says runiche re ram dhani ne ghani ghani khamma . (2011-08-30 10:53:44)
Our reader jagdish kumar Says jai ho mahre runeche re dhani sat sat sirmor mahro dhniyo runicha ro raja picham dhara ro badshah ramsa peer Boolo dhawja band dhari gi sadahi jai,.,.,
(2011-08-16 09:56:40)
Our reader sunita Says JAI BABE RI, BABA BHALI KARE (2011-06-28 04:17:37)
Our reader manish Says very good baba (2011-01-30 03:46:21)
Our reader MISHRA FAMILIY Says HINDUO K HO RAMDEV MUSALMANO K RAMAPIR OR HUM SAB K KRISHN AVTAR BABA RAMDEV PIR. (2010-10-15 10:24:58)
Our reader GOPAL SEN Says RAM SA PEER AAPKI JAI HO,BABO BHALI KARE (2010-10-10 09:55:43)
Our reader Jaydeep Choudhary Says सुरेशचंद्र चौधरी उज्जैन से जय बाबा री (2010-09-30 10:13:43)
Our reader SURESHCHANDRA CHOUDHARY Says JAI BABA RI BABA BHALI KARE (2010-09-30 10:05:12)
Our reader Nil Says Jay Baba ramdevpir
Jay Ho Nejadhari
Jay Dwarkavalanath...
(2010-09-12 04:31:05)
Our reader Bhanwar Singh Says bola ajmal ghar avataari ne khamma.
mata menade re lal ne khamma.
Bhanwar Rajpurohit
KHAKHUSAR. (2010-09-09 10:27:27)
Our reader manoj barua Says jai baba ri sa (2010-05-31 13:32:28)
Our reader Sajjan Kumar Says Jai Baba Ramdev Ji, I with my family memebers visits Ramdevra every year by the grace of Baba Ramdev Ji Maharaj. I want to comment about your story about about Baba Ramdev Ji. The story is good enough but there is some mistakes, I think so. because according to our knowledge Baba Ramdev Ji has taken avtar in the house of Shayar Meghwal and Ajmaal ji took Ramdev ji to his house thereafter. So Please correct it. Thanks. From- skmayla_2007@rediffmail.com (2010-03-29 20:20:47)
Our reader SITARAM SONI JAITARAN Says JAY BABA RI
BABA RI GHANI GHANI MEHARBANI HE. (2010-01-13 12:56:48)
Our reader mahendra Says i want marwadi mp3 of prakash mali (2010-01-12 18:33:43)
Our reader Baba ka bhakt Kanjibhai Says Bhagvan Shree Shree Ramapir,Ramdevpir,Ramdevjimaharaj,Naklang Aavtari Baba Ramdevji, Alakhdhani Baba Ramdevji, Krushna Aavtari Baba Ramdevji ko ghani ghani khamma, Kalyugi Aavtati Baba Ramdevpir ko Jay Ho....Jay Ho....Jay H........O. (2009-12-29 17:04:15)
Our reader ROHTASH KAUSHIK Says DWARKA KE NATH KO KOTI-KOTI PARNAM....DR.ROHTASH KOUSHIK,SIRSA,HARYANA-125055. (2009-10-26 12:48:00)
Our reader rahul meerwal Says bolo ramdev baba ki jai rahul meerwal delhi (2009-09-15 15:31:56)
Our reader rahul Meerwal Says bolo ramdev baba ki jai (2009-09-15 15:31:04)
Our reader jayyprakash Says jai baba ramdev ki jai
jayprakash bangalore (2009-08-17 20:05:16)
Our reader ravinder kumar lohamore Says jo kare baba ramdev par visvash us ki puri hogi har aash baba sab ka hai aur sab baba ke hai baba ka sada naam japo aur dukho se dur raho jai rama peer ki jai ho (2009-08-06 18:37:13)
Our reader deepu kankheria Says jai ramsa peer,
jo baba ke bhagt hai, baba unka sada dhyan rakhte hai,jo ramdevra jayega uske har kasht door honge,es dharti per kahin swarg hai to vo ramdevra hia. (2009-07-04 14:40:01)
Our reader DINESH Says JAI RAMSA PEER (2009-05-21 12:36:33)
Our reader Chainaram Kumawat Says Jai ramsa peer ki. I want basic story of baba ramdev.Surele bhajans songs list and album list with detail.I want proper worship method of Baba Ramdev. and lotof releted metter. (2009-01-07 16:55:33)
Our reader Rajesh Gomladu Says Woh Nath Dwwarka Walo hai wo Chakra Sudershan Dhari hai,
Kalyug Mai Ramapeer kahoon woh niklak neja dhari hai,
Jai ho Dwarka ra nath ri , Babo bhali kare,

Baba ra bhazan mane bahut pyara lage hai main chahu hoon ki app baba ra bhazan bhi available kare achche-achche bhazazn gaane wale jaise, Monioddin ji, Prakash Mali ji, Kuldeep Ojha (His songs i like very much, Gopal Bajaj ji, Rajkumar swami ji or kai inke dwara kai bhazan zinko sunker bari shanti or sakun milta hai

Kyonki Baba ke naam mai hi sakun hai

Main chahta hoon har zagah se khali haath lota hai weh Ramdevera jaai 110% sure weh usse zarrur milaga

Kyonki triloki ra nath Ramdevera mai hi baithya hai

Jai ho Ram Sa peer Ki, Runeecha re Rai ki, Ajmal ghar Avtar ki, Mata Mainade re Lal ki, Netal rani ra bhartar ri, Peer ka peer ki, Naatha ra nath ri, dwarka ra deesh ri, Krishan avtar ri, Jai bolo vishnu bhagwan ki

zise baba ne kai perche diye hai ya ziske parivar ko samparak karey or comments main zaruur dale hum main chahtaa hoon kee hamarey baba ka naam pure sansaar main ho, baba ji ke bare main or unke percho ke bare main likhenge (2009-11-08 20:35:34)
Our reader Nitin Vanel Says Please send me Ramdev Pir Photographs.
Thanks & Regards.
Nitin Vanel
Mumbai

(2008-10-15 10:26:37)
Our reader Amit Raniwal Says Jai Baba Ri, Babo Bhali Kare, BaBa ke Bhakto ke liye sarva sidhi mantra ---- "Om Namo Bhagwate netal nathaye, sakal rog haraye, sarva sampati karae,mam manobhilashit karye sidhaye, om namo ramdevaye namah":, In delhi Thossand of Devotees living of Ramshahpir, if Someone need of baba's pic. then reply me on my Mail _ID, amitraniwal@rediffmail.com...........Amit Raniwal .
(2008-09-11 00:28:25)
Our reader Amit Raniwal Says Jai Baba Ri, Babo Bhali Kare, BaBa ke Bhakto ke liye sarva sidhi mantra ---- "Om Namo Bhagwate netal nathaye, sakal rog haraye, sarva sampati karae, om namo ramdevaye namah":, In delhi Thossand of Devotees living of Ramshahpir, if Someone need of baba's pic. then reply me on my Mail _ID (2008-09-11 00:23:43)
Our reader rakesh waghela Says piro ke pir rama pir ki mahima ko samzna bagyasali yakti konasib hota hai ...kalyug ke avtari maha purush ne kai chamatkar dikhaye hai ..kitne dukhi logo ke dukh dur kare hai....ek nivedan ap se bhihe baba ke darsan ka ek bar labh jarur lai.... WAGHELAfamely INDORE .MP (2008-09-06 14:08:49)
Our reader arun Says jai ho ramdev ji maharaj ri
www.ramapeer.org (2008-08-30 09:35:50)
Our reader LALIT DEWASI Says JAY BOLO BABARAMDEVA KIN JAY
JAY BOLO SHAMUNDA MATAJI KI JAY (2003-06-28 00:00:00)
Our reader Hira from baroda Says pire ka pir ramdevji maharaj ki jay
jay bolo baba ramapir ki jay.....रामदेवजी
jay baba ri ram dav baba sab bhakto
ko
shuk our sampti thi
i.want.baba ramdev ,postar.big.size
(2003-06-28 00:00:00)
Our reader malaram.choudhry Says i.want.baba ramdev ,postar.big.size.i,m,go.to.walk.jalore.to.ramdevara.
thanq (2003-06-28 00:00:00)
Our reader BHAWANIDARAK Says AAPNE PRITHVI RAJ CHAUHAN KE BARE MAIN JO LIKHA WOO GALAT HAI AAGE SE ABHI AAISA MAT LIKHNA........


BHAWANI SHANKAR DARAK
BHAWANIDARAK@GMAIL.COM (2003-06-28 00:00:00)
Our reader lalit Says lalit dewasi mumbai to rajasthan (2003-06-28 00:00:00)
Our reader veer Bheel Says jay baba ri ram dav baba sab bhakto
ko
shuk our sampti thi; (Dharmveer from Delhi) (2008-05-03 02:56:57)
Our reader madan dewasi sarnau Says pire ka pir ramdevji maharaj ki jay
jay bolo baba ramapir ki jay.....रामदेवजी

madan dewasi sarnau ( jalore ) (2008-04-23 03:32:41)
Our reader DHANARAM B.DEWASI ( SAMELANI PARIWAR ) Says दर पर हिन्दू-मुसलमान दोनों ही श्रद्धा और आस्था से सिर नवाते हैं ऐसे देवता कम ही होंगे। परमाणु विस्फोट के कारण देश-विदेश में हलचल मचा देने वाला पोकरण इन दिनों ऐसी ही श्रद्धा, आस्था और विश्वास की स्वर लहरियों से गूँजता हुआ साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता का प्रतीक बना हुआ है।
धना राम देवासी सरनौ जलोरे ( समेला नी परिवार )
सरनौ गाव ताहील सँचोरे ज़िला - जलोरे
मैं मेरे राजस्थान की तेजषवी मुखमत्री वसुधराजी राजे का हमारे देवासी समाज की तरफ़ से अभिनंदन है
(2008-04-20 01:01:19)


Post Your Comments to this News Posting Rules




Search By Word  
Search By Date
   
» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 


Angel Public School celebrated Annual Function
More Photo

Post Your Trade Lead free at leading online business place - rajb2b.com

Insight : 
Home | Business | Entertainment | Celebrity | Sports | Education | Health | Sci-Tech | National | World | Article | Photo Gallery | Video Gallery | E-card | Forums | Camel Festival | Vartmaan Sahitya | Nagar Ek - Nazaare Anek
Company : 
About Us | Feedback | Advertise with us | Terms of use | Privacy Policy | Archives | Sitemap | Can't See Hindi? | News Ticker | RSS | KhabarExpress on Mobile
Our Network : 
RajB2B.com
UniqueIdea.net
PelagianDictionary.com
PelagianSoftwares.com
HindiNotes.com
hubVilla.com
Follow us on : 
   Twitter   Facebook   Orkut
Copyright @ 2010 Natraj Infosys All rights reserved