Saturday 01 Nov 2014Sign In   New Member: Sign Up  RSS


Home > Article >> Short Stories
आम का पेड

15 Jun 2008      Add comment     Mail     Print     Write to Editor     

  एक नगर में एक सुंदर बगीचा था। एक फकीर लंबी पदयात्रा करते हुए वहां पहुंचा। एक आम के पेड के नीचे खूंटी तानकर अलमस्त फकीर सो गया। थकान से उसे गहरी नींद आ गई। बगीचे में दो-तीन बच्चे भी खेल रहे थे। खेलते-खेलते वे आम के पेड पर पत्थर मारकर आम तोडने लगे। एक पत्थर उछल कर सोए हुए फकीर पर जा गिरा। फकीर के कपाल में चोट आई। खून की धार बहने लगी। बच्चे मारे डर के चिल्लाने लगे कि अब फकीर डंडा लेकर उनकी खैर खबर लेगा। बच्चे बगीचे के कोने में दुबक गए। फकीर सहमे हुए बच्चों के पास गया और बच्ची के चरण पकड कर क्षमा याचना करने लगा। एक बच्चे ने आगे बढकर कहा-गुरूजी, क्षमा तो हमें मांगनी चाहिए आप व्यर्थ में क्यों दुखी हो रहे हो। फकीर ने विनम्रता से कहा-तुमने आम पर पत्थर फेके तो आम के पेड ने तुम्हें रसीले आम दिए। मैं तुम्हें डर के सिवाय कुछ नहीं दे पाया। काश! आज मैं भी कोई फलवाला पेड होता तो तुम्हें डराने की बजाय मीठे आम देता। बस इसी पीडा से परेशान होकर मैं तुमसे क्षमा मांग रहा हूं। बच्चे फकीर की क्ष्माशीलता से प्रसन्न हुए और उन्होंने अनजाने में हुए अपराध की क्षमा मांगी। फकीर ने रसीले आम तोडकर बच्चों को दिए और उन्हे प्रसन्नापूर्वक विदा किया।




 Post Your Comments to this Article Posting Rules




Latest Articles
» 

» 

» 

» 

» 


Articles By Writers Most Read Articles
» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 

» 


A Photo Exhibition held at Ajit Foundation
More Photo



Send e-Cards to your Love once and near & dear

Insight : 
Home | Business | Entertainment | Celebrity | Sports | Education | Health | Sci-Tech | National | World | Article | Photo Gallery | Video Gallery | E-card | Forums | Camel Festival | Vartmaan Sahitya | Nagar Ek - Nazaare Anek
Company : 
About Us | Feedback | Advertise with us | Terms of use | Privacy Policy | Archives | Sitemap | Can't See Hindi? | News Ticker | RSS | KhabarExpress on Mobile
Our Network : 
RajB2B.com
UniqueIdea.net
PelagianDictionary.com
PelagianSoftwares.com
HindiNotes.com
hubVilla.com
Follow us on : 
   Twitter   Facebook   Orkut
Copyright @ 2010 Natraj Infosys All rights reserved