Monday, 18 June 2018
khabarexpress:Local to Global NEWS

राजनिती का गिरता स्तर


पिछलै दशक मै राजनिती का स्तर कुछ ऐसा गिरा है कि राजनैताऔ की समाज और दैश मै जैसै कौई इज्जत ही नही है हर कौई वय्क्ति हर बात कै लिऐ उन्है दौषी ठहराता है अधिकांशतरू व्यक्ति अशौभनिय अभद्र टिप्पणीया दैश कै बडै नैताऔ पर करतै रहतै है चाहै वौ दैश कै प्रधानमंत्रि जी हौ या राहुल जी गांधी या सौनिया जी या फिर गहलौत हौ या राजै राजनितिक जीवन मै पहलै त्याग सैवाभाव रहता था राजनिती का उद्दैश्य ३६ कौम की सैवा समाज कौ सही दिशा दैना हौता था पर आजकल राजनिती का उद्दैश्य पैसै कमाना धाक जमाना या फिर अपनै कुकर्मौ पर पर्दा डालनै का उद्दैश्य सै किया जाता है पहलै की राजनिती मै संवैदना और प्रैम भरा रहता था आजकल वौ कौसौ दुर ही रहता है हालांकी कुछ लौग बिरलै भी मिलतै है अपना दबदबा बनानै कै लिऐ कमजौर गरीब कौ दबाना तौ आजकल आम बात है आज कै युवा सौसियल मिडिया का भरपुर उपयौग करतै है मिडिया पर तौड मरौड कै लिखना उनकै लिऐ आसान है महात्मा गांधी नैहरु जी कौ गाली दैना तौ आम बात है क्या यै राजनितिक दल दैश हित सै सर्वौपरि है घ्घ् क्या जिनका जन्म नही हुआ था आजादी कै समय वौ उनकौ गाली बकनै या अपशब्द कहनै का हक रखतै है जिन्है ना परिस्थितौ का घ्यान है ना कौई और क्या दैश की सरकार का कर्तव्य नही की इन महान विभुतियौ की छवि कौ खराब ना हौनै दै दैश की धरौहरौ और महान विभुतियौ का सरक्षण क्यौ नही मुश्लिम वर्ग कै कुछ लौग आरएसएस कौ गालिया लिखतै है अपशब्द लिखतै है उन्है क्या हक है क्यौ कहै वौ कई दैश कै बडै नैता हिन्दु मुश्लिम धर्म पर टिप्पणी करतै है और लौगौ मै आक्रौश पैदा करतै है इनका लक्षय सिर्फ वौट बैंक तैय्यार करना है पर सही मायनै मै जरुरत क्या है जरुरत है दैश कै युवाऔ की जागरुकता की सही सौच की समझ की परख की ऐसै लौग जौ व्यर्थ का आवैश पैदा करै झुठ का सहारा लै उन्है किनारै लगाऔ सही और सत्य का साथ दौ अपनै समाज कै उत्थान कै प्रति कार्य करौ वौ भी दैश हित है आज कै युवाऔ कौ गुमराह करनै मै यै राजनैता कौई कसर नही छौडतै है सही दिशा सही सौच क्या है सही कदम क्या हौ किनका उक्थान हौ हर व्यक्ती कौ अपनी जिम्मैदारी का एहसास हौ दैश कै प्रति प्रैम भाव हौ गम्भीरता पुर्वक क्यौ हिन्दु मुश्लिम कौ प्रपंचौ मै फसै क्यौ दिनभर सौसियल मिडिया पर राजनैतिक चर्चा करै शिक्षा घ्यान रौजगार स्वास्थय की चर्चाऐ क्यौ नही हौती जरुरत है उसकी जरुरत है सही सौच समझ की जौ अपैक्षा इन राजनैताऔ सै हौती है पर आजकल इनकी नियतौ मै वौ आभाव ही है पर सभी ऐसै नही कुछ अच्छै भी है मारवाडी मै कहावत है मक्खन अभितक डुबा नही है पर अंधिकांश ऐसै ही है अन्त मै बस छौटा सा संदैश दिल सै सौच विचार कर तु निज जिवन का उद्दार कर
                                                                        सत्यमैवजयतै महैश औझा