Monday, 22 July 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS

टूटते परिवार दरकते रिश्ते


Shyam Narayan Ranga

एक समय था जब लोग समूह में और परिवार में रहना पसंद करते थे। जिसका जितना बडा परिवार होता वो उतना ही सम्पन्न और सौभाग्यशाली माना जाता था और जिस परिवार में मेल मिलाप होता था और सम्पन्नता होती थी उसके पूरे क्षेत्र में प्रतिष्ठा रहती थी। यह ऐसा समय था जब समाज में परिवारों का बोलबाला था और समाज में सम्पन्नता की निशानी परिवार की प्रतिष्ठा से लगाई जाती थी। उस दौर में व्यक्ति की प्रधानता नहीं थी बल्कि परिवारों की प्रधानता थी। परिवार के धनी लोगों की बिरादरी में विशेष इज्जत होती थी और ऐसे लोग पूरे समूह और समाज का प्रतिनिधित्व करते थे। बडे परिवार का मुखिया पूरे समाज का मुखिया बन कर सामने आता था और उसकी बात का एक विशेष वजन होता था। संयुक्त परिवारों के उस दौर में परिवार के सदस्यों में प्रेम, स्नेह, भाईचारा और अपनत्व का एक विशेष माहौल रहता था। इस माहौल और संयुक्त परिवारों का फायदा परिवार के साथ पूरे समाज को मिलता था और जो पूरे समाज और राष्ट्र को एकसूत्र में बांधने का संदेश देता था। जहाँ तक मेरा मानना है उस दौर में संयम, बडो की कद्र, छोटे बडे का कायदा, नियंत्रण इन सब बातों का प्रभाव था। ऐसे ही संयुक्त परिवारों से संयुक्त समाज का निर्माण हुआ था और पूरा मौहल्ला और गाँव एक परिवार की ही तरह रहते थे। परिवार की नहीं मौहल्ले का बुजुर्ग सबका बुजुर्ग माना जाता था और ऐसे बुजुर्गो के सामने जबान निकालने या किसी अप्रिय कृत्य करने का साहस किसी का नहीं होता था। उस दौर में मौहल्लों में ऐसा माहौल और अपनापन होता था कि गाँव का दामाद या मौहल्ले का दामाद कहकर लोग अपने क्षेत्र के दामाद को पुकारते थे और अगर कोई भांजा है तो किसी परिवार का नहीं बल्कि पूरे मौहल्ले और गाँव का भांजा माना जाता था और यही कारण था कि लोग गाँव की बेटी या गाँव की बहू कहकर ही किसी औरत को संबोधित करते थे। सच कितना अपनापन और आत्मिक स्नेह था उस दौर में। यह वह समय था जब किसी व्यक्ति की चिंता उसकी चिंता न बनकर पूरे परिवार की चिंता बन जाती थी और सहयोग से सब मिलकर उस चिंता को दूर करने का प्रयास करते थे। ऐसे समय में रिश्तों में अपनापन था और लोग रिश्ते निभाते थे ढोते नहीं थे, उस समय में समाज में रिश्तों को बोझ नहीं समझा जाता था बल्कि रिश्तों की जरूरत समझी जाती थी ओर ऐसा माना जाता था कि रिश्तों के बिना जीवन जीया ही नहीं जा सकता है। 

लेकिन बदलते दौर और समय ने इस सारी व्यवस्था को बदल कर रख दिया है। अब वह दौर नहीं रहा। आज परिवार छोटे हो गए हैं और सब लोग स्व में केंन्दि्रत होकर जी रहे हैं पहले व्यक्ति पूरे परिवार के लिए जीता था पर आज अपने बीबी बच्चों के लिए जीता है। उसे अपने बच्चों और अपनी बीबी के अलावा किसी और का सुख और दुख नजर नहीं आता है वह अपनी पूरी जिंदगी सिर्फ इसी उधेडबुन में लगा देता है कि कैसे अपने बच्चों को ज्यादा से ज्यादा सुविधाऍं दे दूं और कैसे अपने आप को समाज में प्रतिष्ठित बना सकूं। आपाधापी के इस दौर में जीवन से संघर्ष करता हुआ व्यक्ति आज रिश्तों को भूल गया है। आज के बच्चों को अपने चाचा, मामा, मौसी, ताया के लडके लडकी अपने भाई बहिन नहीं लगते उन्हें इन रिश्तों की मिठास और प्यार का अहसास ही नहीं हो पाता है क्योंकि कभी उन्होंने इन रिश्तों की गर्माहट को महसूस ही नहीं किया है। आज स्कूल के बस्ते के बोझ में दबा बचपन रिश्तों की पहचान भूल गया है। आज के बच्चों को अपने मौहल्ले में रह रहे बच्चो के बारे में ही पता नहीं होता तो उनको भाई बहिन मान कर प्रेम करने की बात तो कोसों दूर रह जाती है। 

Breaking Familyआज का व्यक्ति सिर्फ अपनी जिंदगी जी रहा है, उसे दूसरे की जिंदगी में झांकना दखलअंदाजी लगता है। वह सारी दुनिया की खबर इंटरनेट से रख रहा है पर पडसी के क्या हाल है उसे नहीं पता। परिवारों की टूटन ने रिश्तों की डोरी को कमजोर कर दिया है। आज का व्यक्ति आत्मनिर्भर होते ही अपना एक अलग घर बनाने की सोचता है। पहले हमारे बुजुर्ग जब भगवान से प्रार्थना करते थे तो कहते थे कि हे ईश्वर घर छोटा दे और परिवार बडा दे। ऐसा इसलिए कहते थे कि घर छोटा होगा और परिवार बडा तो परिवार के लोगों में प्रेम बढेगा। साथ रहेंगे तो अपनापन होगा, एक दूसरे की वस्तु को आदान प्रदान करना सीखेंगे और इससे एकता बढेगी लेकिन बदलते समय में व्यक्ति भगवान से एक अदद घर की प्रार्थना करता है कि हे ईश्वर मेरा खुद का एक घर हो। तो ऐसे एक अलग घर में रिश्तों की सीख नहीं बन पाती और ऐसा घर बनते ही परिवार टूट जाता है। 

सामूहिक परिवार में कब बच्चे बडे हो जाते थे ओर दुनियादारी की समझ कर लेते थे बच्चों के माँ बाप को पता ही नहीं लगता था पर आज बच्चो को पालना एक बडा काम हो गया है। सामूहिक परिवारों में बच्चे अपने चाची, ताई, भाभी के पास रहते थे और उन लोगों को भी अपने इन बच्चों से काफी प्यार होता था। सामूहिक परिवारों में एक परम्परा बहुत शानदार थी वह यह कि बच्चा अपने पिता से बडे किसी भी व्यक्ति के सामने अपने पिता से बात नहीं करता था और पिता भी अपने से बडे के सामने अपने बेटे बेटी का नाम लेकर नहीं बुलाता था और अक्सर ऐसा होता था कि बच्चा अपनी ताई, चाची या भाभी के पास ही रहता था। बच्चे से उनका भी बराबर का लगाव होता था और यही लगाव पूरे परिवार को एकसूत्र में बांध कर रखता था। हो सकता है कि भाई भाई में लडाई हो जाए पर भाई के बच्चे से लगाव के कारण परिवारों में टूट नहीं आती थी। शायद इसी अपनत्व का कारण रहा है कि आज भी उत्तर भारत में बेटी की शादी में बेटी के माँ बाप की अपेक्षा उसके चाचा चाची या ताया ताई से कन्यादान करवाया जाता है ताकि वे उसे अपनी बेटी ही माने। ऐसा देखा गया है कि ऐसे चाचा या ताया कन्यादान के बाद उसको अपनी ही बेटी मानकर प्यार करते थे और जीवनभर उसके साथ वो ही रिश्ता निभाते थे और सामाजशास्त्र के दृष्टिकोण से देखें तो यह एक महान् परम्परा रही है जिसने परिवारों को एकसाथ रहने के लिए प्रेरित किया है। 

ऊपर लिखे के बारे में मैं यह कह सकता ह कि मेरे स्वयं के परिवार में मैंने कभी भी आज तक मेरे दादाजी या मेरे पिजाती से बडे किसी के सामने उनसे बात नहीं की है और हमारे यहॉ आज भी कन्या की शादी में कन्यादान उसके चाचा या ताया ने ही किया है। लगभग यही परम्परा पूरे भारत में एक समय रही है और इसके फायदे हमेशा से ही पूरे परिवार व समाज को मिलते रहे हैं।

परन्तु बदलते समय ने व्यक्ति की सोच में निजता को हावी किया और इसी निजता ने व्यक्ति को परिवार से दूर करने के लिए प्रेरित किया। जबसे व्यक्ति ने अपने भतीजे या भतीजी को छोडकर अपने बेटे या बेटी के बारे मे सोचना शुरू किया है तब से संयुक्त परिवार टूटे हैं। व्यक्ति ने यह सोचना शुरू कर दिया कि मेरे परिवार में किसका योगदान ज्यादा है और किसका कम और यहीं से शुरू हुआ परिवरों में दरार आना। व्यक्ति ने सोचना शुरू कर दिया कि केसे मेरा बेटा सबसे आगे निकले ओर कैसे मैं अपनी कमाई के हिसाब से अपना जीवनस्तर जीना शुरू करूँ और इसी सोच ने अपनत्व और भाईचारे की भावना को आघात पहचाया है। आज हालात यह हैं कि व्यक्ति की इस सोच ने रिश्तों की पहचान को समाप्त कर दिया है। बच्चों से बचपन छिन गया है और बडो से बडपन्न। आज माँ बाप मजबूर है कि अपने बच्चों के साथ समय नहीं बिता पाते । आज छः माह या एक साल का बच्चा किसी आया के हाथ में पलता है और किराये का यह पालना किसी भी सूरत में ताई या चाची का अपनापन नहीं दे पाता है। आज पडौसी या मौहल्ले की समस्या से दूर भागना एक आदत बन गई है और यह सोचा जा रहा है कि अपने को क्या मतलब है किसी बात से। इसी सोच के कारण समाज में अपराध बढे रहे हैं, चोरियाँ हो रही है ओर अराजकता फैल रही है। भाईचारे के अभाव ने समाज में एक ऐसी दरार पैदा कर दी है कि हर व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को संदेह की नजर से देख रहा है। लोग कहते हैं आज जमाना नहीं रहा कि घर मे अकेले रहा जाय, आज जमाना नहीं रहा कि किसी नौकर को घर में अकेले छोडा जाय, अक्सर लोगों को कहते सुना होगा कि आज जमाना नहीं है कि अकेले बच्चों को बाहर भेजा जाए। आज कॉलोनियों और महानगरों मे रहने वाले परिवार अपने ही घर में सुरक्षित महसूर नहीं करते हैं और घर के मुख्य द्वार पर एक छेद रखा जाता है कि पहले देखा जाए कि कौन है। लोग दिन दिहाडे अपने घरों में अंदर से ताला लगाकर कैद होकर रह रहे हैं और कह रहे हैं कि जमाना बदल गया है। 

कभी सोचा है यह जमाना बदला किस ने। आज जरूरत है इन तालो को तोडने की, मुख्य दरवाजों में लगे इन छेदों की जगह दिल में रोशनदान बनाने की ताकि आप अपने मौहल्ले और शहर को अपना समझे और भाईचारा फैलाऍं। आज जरूरत है औपचारिकताओ को मिटाकर दिमाग के दरवाजे खोलने की ताकि आफ दिल में सारा परिवार समा जाए और पूरा मौहल्ला आ जाए और आपको लगे कि यह शहर मेरा है, यह परिवार मेरा है, यह मौहल्ला मेरा है। हम अपने संस्कारों को न भूले, अपनी परम्पराओं को न भूलें। याद रखे विकास करना बुरी बात नहीं है पर विकास के साथ परम्पराओं को भूलना नासमझी है। हम समझदार बने और संयुक्त परिवार और मौहल्ले के महत्व को समझे ताकि आने वाले समय में हमारी पीढी को कह सके कि हाँ हमने भी आफ लिए एक सुखी, समृद्ध, सम्पन्न और विकसित भारत छोडा है।



श्याम नारायण रंगा ’अभिमन्यु‘
पुष्करणा स्टेडियम के पास, नत्थूसर गेट के बाहर, बीकानेर