KhbarExpresswww.khabarexpress.com

Post Your Trade Lead free at leading online business place - rajb2b.com

Welcome Guest Sign In New user! Sign Up Now
Search Photo  
RSSMonday, October 20, 2014

Hindi To English and Enlish to Hindi Dictionary Developed by Pelgian Softwares, Bikaner (Rajasthan) India

News Flashडूडी को जनघोषणा-पत्र की प्रतियां भेंट | पैरासेलिंग षिविर सम्पन्न | राजस्थान में प्रवासी राजस्थानियों के लिये अलग से मंत्रालय खोलने का प्रयास किया जायेगा : सर्राफ | देश के विकास के लिए स्वदेषी अपनाना जरूरी | अजित फाउण्डेशन का तीन दिवसीय वार्षिकोत्सव शुरू | CGs first SAS order from PGCIL | New environment for business meeting in Delhi | Tradonomix introduces learning solution for Traders | RE/MAX appointed Manpreet Grewal for its India Operations | Company e-registration simplified in Singapore |

 KhabarExpress Forum >  Paata Hathai
   रक्षा बन्धन( Raksha Bandhan)

 
 Posting Rules
 Page 1
Post New Topic in Paata Hathai
 AuthorMessege
Topicramram
0 Star Rating
Post: 7
FavouritePhoto
Send Private Messege
रक्षा बन्धन( Raksha Bandhan)
Posted: 8/29/2007 10:36:34 PM
Post Reply

रक्षा बन्धन

रक्षा बन्धन भाई-बहन के अटूट प्रेम का परिचायक पर्व है! यह हमे एकता, त्याग, कर्त्तव्यपरायण का बोध कराता है! श्रावणी पूर्णिमा के दिन ही रक्षा बन्धन का यह पावन पर्व देश के कोने-कोने मे अत्यन्त श्रद्धा, भक्ति से मनाया जाता है!

१)इसी दिन भगवान विष्णु ने "वामन" अवतार धारण कर "राजाबलि" के हाथ मे "रक्षा सूत्र" बांधकर राजाबलि से तीन पग भूमि मांगी, तभी से "रक्षा सूत्र" हर मंगल कार्यो मे बांधते समय इस मंत्र का उच्चारण किया जाने लगा है जो इस प्रकार है "येन बद्धो बली राज, दान वेन्द्रो महाबलः ! तनेत्वां प्रति बध्नामि रक्षे माचल माचल" रक्षा बन्धन पर्व के साथ प्राचीन कथाओ का गहरा सम्बन्ध है!

२)देवासुर संग्राम मे "वृत्रासुर" का संहार करने के लिये जब "इन्द्र" प्रस्थान करने लगे तब उनकी पत्नी "इन्द्राणी" ने समाज की रक्षा के लिये संकल्प की याद बनाये रखने हेतु प्रतीक रुप मे "इन्द्र" की कलाई पर इसी दिन "रक्षा सूत्र" बांधा था!

३)इसी दिन जैन सन्त "श्री श्री अकम्पनाचार्य के संग ७०० मुनियो" पर हुए उपसर्ग को मुनि "श्री श्री विष्णुकुमार महामुनि जी" ने दूर किया ओर सब सन्तो को आहर करवा खुद आहर लिया!

४)इसी प्रकार चित्तौड़ की रानी कर्णावती ने हुमायूं को, रानी दुर्गावती ने राजा अकबर को, द्रौपदी ने कृष्ण को, यमुना ने यम को, लक्ष्मी ने राजा बली को बांधी थी!


>> आज २८-०८-२००७ को रक्षा बन्धन के इस पावन पर्व पर सब दोस्तो, रिस्तेदारो, बहनो को शुभकाम्नाये ओर सब से आग्रह कि हम सब "रक्षा बन्धन" के इस मूलभूत उद्देश्यो को समझते हुए इसका पालन करने का दृढ़ संकल्प ले ताकि राष्ट्रीय गौरव की मर्यादाओं मे चार चांद लगाकर इन्हें गौरवान्वित कर सकें!!


 Page 1
Post New Topic in Paata Hathai
Forum Jump
All right reserved by Khabarexpress.com
Contact Us | Archives | Sitemap | Can't see Hindi ? | News Ticker
Special Edition: Lakshchandi Mahayagya, Camel Festival 2007, Vartmaan Sahitya, Nagar Ek - Nazaare Anek, Bikaner Udyog Craft Mela
Our Network rajb2b.com | khabarexpress.com | uniqueidea.net | PelagianDictionary.com | hindinotes.com | hubVilla.com
Developed & Designed by Pelagian Softwares