Friday, 22 February 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  1941 view   Add Comment

सेंट्रल जेल में कैदी ने की 3 की हत्या

केन्द्रीय कारागार में आज सुबह मानसिक रूप से विकसित एक कैदी

 बीकानेर। केन्द्रीय कारागार में आज सुबह मानसिक रूप से विकसित एक कैदी ने तीन सजायाप्ता बंदियों को ईंट से एक-एकपर वार कर जान से मार दिया वहीं एक जेल प्रहरी को भी चोटिल कर दिया। जेल कारागार में आज सुबह एकाएक हलचल मच गई और कैदियों ने देखा कि वहां जेल में बंद झुंझुनू के वार्ड नं. ३४ निवासी मुस्लिम उर्फ रामसिंह ने बैरक से निकलकर शोच के लिए जा रहे पवनकुमार पुत्र रामचन्द्र पर ईंट से वार किया जिससे वह वहीं धारासायी हो गया उसे बचाने के लिए सजायाप्ता  बुजुर्ग कैदी जेतसर निवासी मूलाराम (७४) पुत्र भैंराराम मेघवाल ने छुड़ाने का प्रयास किया तो उस पर ही ताबड़तोड़ र्इंट से वारकर उसकी भी हत्या कर दी और वहां से निकलकर बैरक के आगे सो रहे पल्लू के शेरपुरी निवासी करनेल सिंह (८४) पुत्र शेरसिंह पर भी ईंट से वार किया। इस घटना को देखकर अन्य कैदियों व जेल प्रहरियों ने भी उसे बचाने का प्रयास किया इस पर एक जेल प्रहरी तरसयम सिंह को चोटिल कर दिया। बाद में किसी तरह से पागल कैदी मुस्लिम उर्फ रामसिंह को काबू पाया गया। इस घटना की जानकारी मिलने पर जेल प्रशासन ने तुरंत तीन कैदियों व जेल प्रहरी को पीबीएम पहुंचाया। जहां तीनों कैदियों को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर उनके शवों को पीबीएम अस्पताल की मोर्चेरी में रखवाया। इस घटना की जानकरी मिलते ही पुलिस महानिरीक्षक गोविंद गुप्ता, संभागीय आयुक्त आनन्द कुमार, पुलिस अधीक्षक राकेश सक्सेना व उपखंड अधिकारी ऋषिबाला सहित आला अधिकारी मौका स्थल पर पहुंचकर घटना की विस्तृत से जानकारी दी। वहीं जेलर इन्द्रङ्क्षसह यादव ने झुझुनू  वार्ड नं. ३४ के निवासी मुस्लिम उर्फ रामसिंह पुत्र हबीब खां के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराया। बीछवाल थानाधिकारी इन्द्रकुमार ने बताया कि  तीनों मृतक बंदियों के परिजनों को सूचना भिजवा दी गई है कि उनके परिजनों के आने के बाद न्यायिक बोर्ड द्वारा पोस्टमार्टम करवाया जायेगा। 

जेल में प्रश्र चिन्ह -केन्द्रीय कारागार में तीन बंदियों की एक साथ निर्मम हत्या करने के मामले में जेल में प्रश्रचिन्ह खड़े हो गये। जेल प्रशासन द्वारा मानसिक रूप से विकसित बंदी को सामान्य बंदियों के बीच रखना वहीं जेल प्रशासन यदि समय पर पहुंच जाता तो संभवत: यह घटना नहीं होती। वहीं हत्या के मामले में पागलपन का करार देकर प्रशासन अपने आप को बचाने की कवायद कर रहा है। वहीं दूसरी ओर अन्य बंदी भी अपने ईलाज के लिए आज अस्पताल पहुंचे तो उन्होंने मीडिया को यह साजिश के तहत हत्या का मामला बताया है।

 

Share this news

Post your comment