Saturday, 20 April 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  1635 view   Add Comment

विशेष योग्यजनों के लिए स्थापित किया जाएगा काउंटर: डोगरा

नोडल अधिकारी नियुक्त,प्राथमिकता के आधार पर होगा निस्तारण प्रयास

 बीकानेर,  विशेष योग्यजनों की सहायता के लिए प्रत्येक कार्यालय में अलग से काउंटर स्थापित किया जाएगा। हर विभाग में एक नोडल अधिकारी तैनात होगा जो विशेष योग्यजनों की समस्याओं को सुनते हुए प्राथमिकता के आधार पर इनके निस्तारण के प्रयास करेगा। कार्यालयों में रैम्प, विशेष योग्यजनों के लिए अलग से पार्किंग स्थान तथा अन्य आधारभूत सुविधाएं इजाद की जाएगी। 

जिला कलक्टर आरती डोगरा ने शनिवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित विशेष योग्यजन सहयोगी कार्यशाला के दौरान यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जिले में विशेष योग्यजन के प्रति मित्रावत माहौल बने, इसके लिए प्रत्येक अधिकारी तथा कर्मचारी को विशेष योग्यजनों के कार्यो को पूर्ण संवेदनशीलता तथा प्राथमिकता से करना होगा। उन्होंने कहा कि कार्यालयों में विशेष योग्यजनों की व्यवहारगत समस्याओं को सुनने तथा उनके कल्याण के लिए सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का समयबद्ध लाभ दिलाने सहित विभिन्न पहलूओं को ध्यान रखते हुए जिला स्तर पर एक अभियान चलाया जाएगा। यह अभियान ‘समावेश’ नाम से संचालित होगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत प्रत्येक कार्यालय में विशेष योग्यजनों के लिए विभिन्न सुविधाएं आगामी एक सप्ताह में इजाद करनी होंगी तथा इसकी सूचना कलक्टर कार्यालय में उपलब्ध करवानी होगी। 
करनी होंगी यह व्यवस्थाएं
जिला कलक्टर ने कहा कि प्रत्येक विभाग में विशेष योग्यजनों की समस्याओं को सुनने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा। ये अधिकारी जिला, तहसील और पंचायत स्तरीय विभागों में भी होंगे। प्रत्येक कार्यालय में अलग से काउंटर लगेगा जहां नोडल अधिकारी प्रतिदिन बैठकर विशेष योग्यजनों की समस्याओं का समाधान करेंगे। नोडल अधिकारी के मोबाइल नंबर कार्यालय में अंकित करवाए जाएंगे तथा जिला कलक्टर कार्यालय को भी उपलब्ध करवाए जाएंगे। जिन कार्यालयों में रैम्प नहीं हैं, वहां आगामी एक सप्ताह में रैम्प बनवाए जाएंगे। यदि कोई कार्यालय प्रथम अथवा द्वितीय तल में संचालित होते हैं तो उन स्थानों पर विशेष योग्जनों की समस्याओं की सुनवाई के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि विशेष योग्यजनों की ट्राई साइकिल अथवा मोटराइज्ड ट्राई साइकिल जैसे वाहनों की पार्किंग के लिए अलग से स्थान चिन्ह्ति किया जाए। यह स्थान विभागीय अधिकारी कार्यालय से ज्यादा दूरी पर न हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। 
विशेष योग्यजनों के प्रति रखें संवेदनशीलता
जिला कलक्टर ने कहा कि विशेष योग्यजनों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए चल रही विभिन्न ऋण योजनाओं का लाभ निर्धारित समय में मिले, इसके लिए विभिन्न बैंक पूर्ण संवेदनशीलता के साथ कार्य करें। प्रकरण के समाधान का समय निर्धारित किया जाए तथा विशेष योग्यजन को एसएमएस अथवा फोन के माध्यम से इसकी सूचना देने की शुरूआत की जाए। उन्होंने कहा कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, विशेष योग्यजन प्रमाण-पत्रा बनाने के कार्य की नियमित समीक्षा करे तथा यह सुनिश्चित करे कि विशेष योग्यजनों को अधिक परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि उरमूल ट्रस्ट द्वारा तैयार डाटाबेस की सहायता ली जाए तथा जिन गांवों में विशेष योग्यजनों के प्रमाण-पत्रा नहीं बने हैं, उन्हें प्राथमिकता से बनाया जाए।
कलक्टर की पहल की हुई सराहना
कार्याशाला के दौरान उरमूल ट्रस्ट द्वारा विशेष योग्यजनों की सहायता के लिए किए जा रहे कार्यों से संबंधित वृत्तचित्रा दिखाया गया। इस अवसर पर उरमूल ट्रस्ट के अरविंद ओझा ने विशेष योग्यजनों की सुनवाई के लिए जिला कलक्टर द्वारा की गई विशेष व्यवस्था की सराहना की। उन्होंने कहा कि जिला कलक्टर कार्यालय प्रथम तल में होने के कारण विशेष योग्यजनों को ऊपर चढ़ने में होने वाली परेशानी को ध्यान रखते हुए कलक्टर द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी का लाभ लेते हुए वेब कैमरे के माध्यम से सुनवाई की जाती है तथा इसके आधार पर संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया जाता है। इस दौरान विशेष योग्यजन अनुराधा पारीक, गाढ़वाला के शंकर लाल और देवकी ने विभिन्न कार्यालयों में आने वाली व्यवहारिक समस्याओं तथा अपने अनुभवों के बारे में बताया। 
इस दौरान अतिरिक्त जिला कलक्टर (नगर) दुर्गेश कुमार बिस्सा, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अशोक यादव, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ देवेन्द्र चौधरी, जिला रसद अधिकारी (शहर) नरेन्द्र सिंह पुरोहित, समाज कल्याण विभाग के उपनिदेशक लीलाधर पंवार, समाज कल्याण अधिकारी विक्रम सिंह सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
-----
 

Share this news

Post your comment