Monday, 23 October 2017

जल्द बनेगा रविन्द्र रंगमंच, रेल्वे फाटक समस्य का भी शीघ्र हल: पूनम

जिला कलक्टर ने बीकानेर प्रेस क्लब कार्यक्रम मीट द प्रेस कार्यक्रम मे दिया उद्बोधन

जिला कलक्टर ने बीकानेर प्रेस क्लब कार्यक्रम मीट द प्रेस कार्यक्रम मे दिया उद्बोधन 

बीकानेर, 7 अगस्त। बीकानेर में पिछले 21 वर्षों से निमार्णाधीन रविन्द्र रंगमंच का निर्माण कार्य अगले एक साल में पूरा कर लिया जाएगा। यह जानकारी जिला कलक्टर श्रीमती पूनम ने शुक्रवार को कलेट्रेट सभागार में बीकानेर प्रेस क्लब की ओर से आयोजित मीट द प्रेस कार्यक्रम में दी। कलक्टर पूनम ने बताया कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे, एसीएस तथा यूडीआईएच विभाग भी बीकानेर के रविन्द्र रंगमंच के निर्माण का जल्द से जल्द पूरा करवाने के प्रति गंभीर हैं। उन्होंने बताया कि रविन्द्र रंगमंच का एस्टिमेट बजट 9 करोड़ 15 लाख रुपये का बनाया गया है। निर्माण कार्य पूरा करने के लिये लगभग पांच करोड़ रुपये की और आवश्यकता है। उसके लिये राज्य सरकार ने केन्द्र सरकार से राशि उपलब्ध कराने की मांग की हुई है। कलक्टर पूनम ने कहा कि पूरी संभावना है कि केन्द्र से राशि उपलब्ध हो जाएगी। यदि ऐसा नहीं भी होता है तो भी रविन्द्र रंगमंच का काम नहीं रुकेगा। राज्य सरकार इसके लिये बजट की व्यवस्था कर इस आगामी एक वर्ष में पूरा करवा देगी। कलक्टर ने कहा कि रंगमंच को लेकर सरकार की गंभीरता से पूरी आशा है कि अब इसका काम नहीं रुकेगा साथ ही एक वर्ष में काम पूरा भी कर लिया जाएगा। बीकानेर की रेल फाटकों पर जाम लगने की समस्या तथा हवाई सेवा शुरू करने की समस्या पर कलक्टर ने बताया कि रेल फाटक समस्या पर जल्द ही राज्य के मुख्य सचिव के साथ बीकानेर में बैठक आयोजित होगी। इस समस्या के बारे में हाईकोर्ट के निर्देश भी मिले हुए हैं। उसी की पालना में आगामी सोमवार को होने वाली बैठक में रेल फाटक समस्या के संबंध में अंतिम निर्णय कर कोर्ट को सबमिट कर दिया जाएगा। उसके बाद कोर्ट के निर्देशों के तहत आगामी कार्रवाई की जाएगी। बीकानेर में हवाई सेवा शुरू करने के संबंध में कलक्टर पूनम ने बताया कि निजी एयरलाइन्स फायदे के हिसाब से काम करती हैं। इस संबंध में जिले के प्रभारी सचिव निर्देश दिये हैं कि यदि बीकानेर से कुछ संस्थायें हवाई यातायाता के लिये कुद सीटें बुक करने की गारंटी देती हैं तो उनसे लिखित में ले ली जाए ताकि केन्द्र सरकार से इस संबंध में आगामी कार्रवाई का आग्रह किया जा सके। बारिश के बाद शहर की हुई स्थिति के बारे में कलक्टर ने कहा  कि शहर में डेÑनेज व्यवस्था सही नहीं है। इसे सही करवाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि शहर के जिन इलाकों में सिवरेज नहीं हैं, ऐसे इलाकों में  सिवरेज लाइन बिछाने का कार्य थर्ड फेज में लिया जा रहा है। इससे पहले बीकानेर प्रेस  क्लब के अध्यक्ष जयनारायण बिस्सा ने जिला कलक्टर पूनम को  पुष्पगु भेंट कर उनका अभिनन्दन किया। कार्यक्रम में महासचिव  अपर्णेश गोस्वामी, कोषाध्यक्ष विक्रम जागरवाल, लक्ष्मण राघव, सुरेश  बोड़ा, रवि विश्नोई, आनंद आचार्य, नीरज जोशी, भवानी जोशी, रमजान   मुगल, मोहम्मदअली पठान, कमलकांत शर्मा, सुनील बरूआ, रफीक  पठान, मजिबुर्रहमान, धीरज जोशी, तेजकरण हर्ष, शिव भादाणी, आनंद  प्रताप आचार्य, बिरमदेव रामावत, नरेश मारू, सुमित व्यास, उमाशंकर आचार्य, प्रमोदसिंह शेखावत, मनीष सिंघल, रामरतन मोदी, राजेश छंगाणी, सूरज पारीक, घनश्याम स्वामी सहित अनेक पत्रकार उपस्थित थे।   

बीकानेर से बहुत कुछ सीखने की कौशिश
कलक्टर पूनम ने कहा कि उनको बीकोनर के लोगों के आत्मसंतुष्टी का स्‍वभाव से काफी  अच्छा लगा है और वो भी बीकानेर के लोगों से ऐसा कुछ सीखने की कौशिश कर रही हैं। हाल ही में बीकानेर में कलक्टर के पद को सम्हालने वाली श्रीमती पूमन 2005 बैच की आईएएस अफसर हैं। उनका गृह जिला मुज्जफरपुर बिहार प्रदेश है। वे बीकानेर से पहले सवाईमाधोपुर कलक्टर डूंगरपुर तथा बूंदी में कलक्टर पद परी रह चुकी हैं।  डीओपी में उप सचिव के पद पर भी कार्य किया।  कलक्टर पूनम ने डूंगरपुर के कार्यकाल के अनुभव बताये तथा अच्छा कार्यकाल बताते हुए कहा कि वहां पब्लिक से जुड़कर काम करने की पूरी कौशिश की। जिसमें वे सफल भी रहीं। वहां ओपन डोर सिस्टम चलाया।

भाग्यशाली हूं माउंट आबू में लिया प्रशिक्षण
कलक्टर पूनम ने कहा कि वे उन भाग्यशाली अफसरों में से हैं जिसको राजस्थान की सबसे अच्छी जगह माउंट आबू में इंटर्नशिप करने का मौका मिला। उन्होंने कहा कि माउंट आबू जीवनभर के लिये साथ जुड़ गया क्यूंकि वहां उनकी बेटी का जन्म वहां मांउट आबू में ही हुआ है। उन्होंने कहा कि सवाईमाधोपुर जिले में रणथम्‍भौर अभ्‍यारण होने से उनके व उनके बच्चों का लगाव वहां से हैं। उन्होंने  कहा कि बीकानेर की अपनी अलग विशेषता है। जो आफिसर यहां से गए हैं। वे अब भी यहां के विकास को लेकर चिंता रखते हैं। पूर्व कलक्टर आलोक भी टच में रहते हैं।

लोगों का स्वभाव बेहतर
कलक्टर ने कहा कि बीकानेर के लोगों का स्‍वभाव बहुत अच्छा है। कभी किसी में उग्रता नहीं देखी। यहां लोग सेटिसफाई हैं। जबकि लोगों को सबकुछ पाने के बाद भी सेटिफेक्शन नहीं होता है। यहां है। बीकानेर से यह सीखने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जीवन में सबसे अधिक खुद का सेटिसफैक्शन ही जरूरी है। बीकानेर में सामाजिक बंधन है। लोग संस्कृति से जुडे हुए हैं। भारत की विशेषता बंधनों को मजबूत करने की है वो बीकानेर में हैं। बीकानेर में ब्रेन ड्रेन की समस्या कम है। बीकानेर के लोग बीकानेर आकर अपनी सेवायें देना चाहते हैं। जब कोई व्यक्ति अपने क्षेत्र में सर्विस देता है। वो वहां की हर चीज से वाकिफ होता है। इसलिये वह अच्छा काम कर पाता है।   

बीपीसी की प्रशंसा
जिला कलक्टर पूनम ने कार्यक्रम को लेकर बीकानेर प्रेस क्लब की प्रशंसा करते हुए कहा कि क्लब की यह अच्छी पहल  है। इससे मीडियाकर्मियों और अधिकारियों के बीच संवाद कायम  होते हैं। उन्होंने कहा कि वे प्रदेश के कई जिलों की तुलना में यहां मीडिया का सकारात्मक पहलू नजर आता है। संतोषी हैं यहां के लोग प्रदेश के दूसरे जिलों में अपने कार्यकाल का अनुभव बताते हुए क लक्टर पूनम ने कहा कि हर जिले की अलग अलग संस्कृति होती है  लेकिन यहां के लोग बहुत ही संतोषी हैं। उनमें रोद्रता नहीं है। शहर  संतुष्ठ प्रवृत्ति के लोगों का है। सभी सादगी भरे और पारिवारिक बंधन वाले हैं।

BPC   Bikaner Press Club   Bikaner Media   Journalist Anand Acharya   Neeraj Joshi   J N Bissa