Sunday, 22 October 2017

बीकानेर और डूंगरपुर का बनेगा ‘हैरिटेज कंजर्वेशन प्लान’

सम्पति विरूपण अधिनियम के तहत होगी सख्त कार्रवाई

बीकानेर और डूंगरपुर का बनेगा ‘हैरिटेज कंजर्वेशन प्लान’

बीकानेर, स्वायत्त शासन विभाग के प्रमुख शासन सचिव डाॅ. मंजीत सिंह ने कहा कि संभाग के सभी शहरी क्षेत्र साफ-सुथरे रहें, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। प्रत्येक घर में पक्के शौचालय बनें तथा इनका उपयोग हो। सम्पति विरूपण प्रतिषेध अधिनियम के तहत सख्त कार्रवाई की जाए तथा निकाय राजस्व बढ़ाने के प्रयास भी करें। 
डाॅ. सिंह सोमवार को कलक्ट्रेट सभागार में संभाग स्तरीय बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर पोस्टर, विज्ञापन तथा होर्डिंग आदि लगाकर सुंदरता बिगाड़ने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाए तथा अधिनियम के प्रावधानों के अनुरूप चालान और जुर्माना लगाने की कार्रवाई की जाए। उन्होंने इसे अभियान के रूप में चलाने के निर्देश दिए तथा कहा कि ऐतिहासिक स्थलों का सौंदर्य बिगड़े, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाए। प्रतिबंधित पाॅलीथीन का उपयोग करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि स्थानीय निकाय अपनी आय बढ़ाने के प्रयास करें। इसके तहत भूमि की नीलामी करने, निकाय की सीमा बढ़ाने के प्रस्ताव तैयार करने, यूनिपोल एवं हाॅर्डिंग्स की संख्या बढ़ाने, यूजर चार्जेज तथा अरबन डेवलपमेंट टेक्स की वसूली की कार्रवाई करंे।
प्रमुख शासन सचिव ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन एक महत्त्वाकांक्षी अभियान है तथा इसके तहत प्रत्येक घर में पक्के शौचालय का निर्माण 31 मार्च तक पूर्ण कर लिया जाए। उन्होंने शौचालय विहीन परिवारों का सर्वे, चयनित परिवारों की वित्तीय स्वीकृति तथा बन चुके शौचालयों के फोटोग्राफ अतिशीघ्र भारत सरकार की वेबसाइट पर अपलोड करने तथा सामुदायिक शौचालय निर्माण के लिए स्थान चिन्ह्ति करने एवं इनका निर्माण करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने नगरीय क्षेत्रों में ओडीएफ प्वांइट चयनित करने तथा इन स्थानों पर शौचालय बनवाने के निर्देश दिए तथा संभाग के 26 निकायों द्वारा इनका चिन्हीकरण न करने पर नाराजगी जताई।

धन की नहीं आएगी कमी
डाॅ सिंह ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में आधारभूत सुविधाओं की वृद्धि में धन की कमी नहीं आने दी जाएगी। राज्य के 187 शहरी क्षेत्रों में इन योजनाओं के तहत लगभग 40 हजार करोड़ रूपये व्यय किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ‘एनर्जी सेविंग’ के तहत राज्य के 142 नगरीय क्षेत्रों मे ंएमओयू हो चुका है तथा एलइडी लाइटें लगाने का कार्य प्रगतिरत है। इसके तहत राज्य में लगभग बीस लाख एलइडी लाइट्स लगाई जाएंगी। उन्हांेने प्रत्येक निकाय में इस कार्य में और अधिक गति लाने के निर्देश दिए। उन्होंने शहरी क्षेत्र में साफ-सफाई, डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन, रात के समय कचरा लिफ्टिंग, ठोस कचरा प्रबंधन तथा इसके प्रोसेसिंग सहित अन्य बिंदुओं पर विचार विमर्श किया। 

रैन बसेरों में हो आधारभूत सुविधाएं
प्रमुख शासन सचिव ने कहा कि नगरीय क्षेत्रों के रैन बसेरों में सभी आधारभूत सुविधाएं हों तथा आवश्यकता के अनुसार नए रैन बसेरे बनाने के प्रस्ताव भिजवाए जाएं। उन्होंने शहरी आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूह गठित करने, इनके बैंक खाते खुलवाने तथा इन्हें प्रशिक्षण एवं बैंकों में माध्यम से ऋण दिलवाने की कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने अमृत योजना के तहत चयनित निकायों में सीवरेज, ड्रेनेज और पार्क विकसित करने के प्रस्ताव तैयार करने के लिए निर्देशित किया तथा कहा कि पार्क में वरिष्ठ नागरिकों के लिए भ्रमण पथ, बच्चों के खेलने, पार्किंग, रेन वाटर हार्वेस्टिंग तथा सोलर सिंस्टम आदि को सम्मिलित किया जाए। 

अभियान चलाकर हटाएं अतिक्रमण
डाॅ सिंह ने सभी शहरी क्षेत्रों में अतिक्रमण हटाने के लिए अभियान चलाने तथा वेंडिंग-नाॅन वेंडिंग जाॅन निर्धारित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आरयूआईडीपी के तीसरे फेज के कार्यों की डीपीआर अनुमोदित करवाकर निविदा प्रक्रिया 20 जनवरी तक की जाए। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रा में बनाए गए शौचालयों के फोटो अपलोड करने तथा ट्रिगरिंग के तरीके की सराहना की तथा शहरी क्षेत्रा में इसी तर्ज पर व्यवस्था लागू करने एवं अधिकारियों को इस संबंध में प्रशिक्षण देने के निर्देश दिए। 

बीकानेर और डूंगरपुर का बनेगा ‘हैरिटेज कंजर्वेशन प्लान’
प्रमुख शासन सचिव ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा हैरिटेज संरक्षण के लिए बीकानेर और डूंगरपुर नगरीय निकायों में ‘हैरिटेज कंजर्वेशन प्लान’ बनाया जाएगा। इसके तहत शहरी क्षेत्रा के हैरिटेज स्थलों का चिन्हीकरण एवं उनके सौंदर्यकरण के कार्य किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इससे संबंधित अधिकारी अगले दो दिनों तक बीकानेर मंे रहेंगे तथा स्थलों का चिन्हीकरण करेंगे। उन्होंने 20 जनवरी से पहले इस संबंध में रिपोर्ट उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। 

बैठक में जिला कलक्टर पूनम, स्वायत्त शासन विभाग के निदेशक पुरूषोत्तम बियाणी, महापौर नारायण चैपड़ा, निगम आयुक्त एन. एल. मीना, अतिरिक्त संभागीय आयुक्त डाॅ राकेश कुमार शर्मा सहित संभाग के नगरीय क्षेत्रों के अध्यक्ष, अधिशाषी अधिकारी, स्वायत्त शासन विभाग तथा जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।