Thursday, 18 July 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  4086 view   Add Comment

हो रहा है लोक नाट्य परम्पराओं पर वृत्तचित्र निर्माण

केन्द्रीय संगीत नाटक अकादमी  के सहयोग से  गूंज कला एवं संस्कृति संस्थान की ओर हो रहा है कार्य

हो रहा है लोक नाट्य परम्पराओं पर वृत्तचित्र निर्माण

बीकानेर । गूंज कला एवं संस्कृति संस्थान, बीकानेर द्वारा बीकानेर शहर में होने वाले लोक नाट्य रम्मत पर एक वृतचित्र का निर्माण किया जा रहा है।

समन्वयक जयदीप उपाध्याय ने बताया कि भारत की अर्मूत कला सांस्कृति विरासत और विविध सांस्कृतिक परम्पराओं का संरक्षण 2015-2016 की योजना के तहत केन्दीय संगीत नाटक अकादमी  के सहयोग से  एक वृत चित्र का निर्माण किया जा रहा है । 
बीकानेर की लोक नाट्य परम्परा रम्मतों  के संरक्षण, संवर्द्धन एवं एकीकरण हेतु बीकानेर में विभिन्न स्थान पर होने वाली रम्मतें अमर सिंह राठौड़ की रम्मत, हडाउ मेरी की रम्मत,सांग मेरी की रम्मत , नोटंकी शहजादी, फकड दाता आदि की रम्मत के  कथानक, नाट्य शैली एवं गायन शैली व प्रदर्शन पर रामसहाय हर्ष के निर्देशन में वृतचित्र का निर्माण किया जा रहा है ।
इन रम्मतों के कलाकारों व उस्तादों के साक्षात्कार , पूर्वाभ्यासों एवं प्रदर्शन को वृतचित्र  में शामिल किया गया है । इस वृतचित्र के निर्माण उदेश्य इस पारम्परिक लोक नाट्य रम्मत जो कि इलेक्ट्रोनिक्स मिडिया, सिनेमा और टीवी के बढ़ते चलन के कारण लोकप्रियता खोता जा रही है को  पुनः जीवन्त करना है ।
इस कार्यक्रम के संयोजक रोहित बोड़ा ने बताया कि संस्थान द्वारा इस योजना के तहत रम्मत के कलाकारों, उस्तादों व लोक कला मर्मज्ञों के साथ कार्यशाला व संमिनार का भी आयोजन किया जाएगा। साथ ही रम्मत के कलाकारों व उस्तादो को सम्मानित  किया जाएगा। 
लोक कला मर्मज्ञ श्रीलाल मोहता के मार्गदर्शन में लोक नाट्य रम्मतों के संरक्षण एसं संवर्द्धन हेतु कलाकारों व उस्तादांे को सूचीबद्ध कर प्रलेखन किया जाएगा साथ ही रम्मतों के संरक्षण , संवर्द्धन व एकीकरण हेतु पूर्वाभ्यास व विभिन्न पक्ष  जैसे , गायन शैली पारम्परिक अभिनय शैली, कथानक, सांस्कृतिक मूल्यों व सामाज से जुड़ाव जैसे पक्षांे पर चर्चा व कार्यशालाओं, लोक नाट्य परम्परा का प्रचार-प्रसार किया जाएगा जिससे ये लोक नाट्य परम्परा अपने मूलरूप एवं सांस्कृतिक व सामाजिक मूल्यों का बनाये रख सके। 
इस वृतचि़त्र की परिकल्पना एवं निर्देशन रामसहाय हर्ष की है तथा सम्पादन येशूदास भादाणी का एवं केमरामेन विजय तॅवर विक्रम जागरवाल एवं अनिल बोहरा है । तकनीकि सहयोग रामाकान्त हर्ष व मनोज सुथार का रहेगा। प्रोडक्शन कन्ट्रोलर उदय कुमार व्यास है । 
पाश्र्व संगीत संयोजन जयदीप उपाध्याय का होगा । निर्माण सहयोग आर आर किएशन, प्रतीक संस्थान, हरीश बी. शर्मा, राजेश ओझा चन्द्रशेखर जोशी का है ।

 

Lok Naatya, Traditional Drama, Goonj Kala Sansthan, Documentry, Bikaner,

Share this news

Post your comment