Monday, 23 October 2017

किसी गरीब की रोटी में ये वतन देखो

मुरलीधर व्यास की जयंती पर कवि सम्मेलन एवं मुशायरे का आयोजन

बीकानेर (संवाद)। जो देखनी है तो मजदूर की थकन देखो सुबह से शाम तक उसका बांकपन देखो तथा ये देश अब भी किसी झोपडी में बसता है। किसी गरीब की रोटी में ये वतन देखो के साथ ही हालातों का बयान करती पहचान खुद की दुनिया में क्यों खो रहा है आदमी। हिंदू मुसलमां दुनिया में क्यों हो रहा है आदमी  पंक्तियां जब कवियों और शायरों ने प्रस्तुत की तो वर्तमान समय का स्पष्ट चित्रण सामने आते हुए प्रत्येक को सोचने के लिए मजबूर कर गया यह दृश्य उभरकर आया सुथारों की गुवाड में और अवसर था जन नेता पूर्व विधायक मुरलीधर व्यास की 93वीं जयंती के मौके पर स्व. मुरलीधर व्यास स्मृति नेताजी सुभाष सभा द्वारा मुरलीधर व्यास की प्रतिमा स्थल पर आयोजित कवि सम्मेलन एवं मुशायरे का। समाजसेवी नारायण दास रंगा की अध्यक्षता में हुए कवि सम्मेलन के प्रारंभ में स्व. व्यास जी के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। इस अवसर वरिष्ठ कवि लालचंद भावुक, गौरीशंकर मधुकर ने अपनी रचनाएं प्रस्तुत की। इस मौके पर शायद आनंद वि आचार्य, संजय आचार्य, रमेश भोजक, मीनाक्षी स्वर्णकार, जुगल पुरोहित, लीलाधर सोनी, मोहनलाल वैष्णव आदि ने कविता गीत और गजले सुनाकर उपस्थित श्रोताओं को भाव विभोर किया। नेताजी सुभाष सभा की ओर मुरलीधर व्यास की जयंती पर रेलवे स्टेशन प्रतिमा स्थल तक प्रभात फेरी निकाली गई। 

Murlidhar Vyas   Anand V Acahray   Sanjay Acharya   Gaurishankar Madhukar   Lalchand Bhavuk