Monday, 22 July 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  2532 view   Add Comment

काकी हुकम देवो तो लूटू आगरो

अमर सिंह राठौड की रम्मत का हुआ मंचन

बीकानेर, संभाग स्तरीय कला, साहित्य एवं संस्कृति मेले के दूसरे दिन शनिवार को टाउन हॉल मे वीर रस प्रधान अमर सिंह राठौड की रम्मत का प्रभावी मंचन किया गया। पारम्परिक गायकी, बाहय यंत्रो की संगत तथा राजशाही पौशाकों को धारण किए प्रत्येक पात्र ने बादशाह, हाडी रानी, राम सिंह, सलावत खां, बीबी, हरकारा पात्रो को गीत, संवादों नृत्यो के हाव-भाव के साथ सजीवता प्रदान की। रम्मत का शुभारभ्भ जोगमाया के मंच पर पंहुचने तथा उसकी स्तुती वंदना के साथ हुआ। तत्पश्चात रम्मत के मंचन के दारौन अमर सिंह का शादी के लिए नागौर आना, हाडी रानी से विवाह, अमर सिंह का हाडी रानी की तीज एवं मेलों की मनुहार, अमर सिंह का आगरा जाने की चाह पर हाडी रानी द्वारा रोकने का निवेदन, अमर सिंह  का सलावत खां से चुगल संवाद, राम सिंह  व किशना नाई का अमर सिंह के अमर होने की सूचना का संवाद  रामसिंह का हाडी रानी से अगारे पर  चढाई करने हेतु अनुमति संवाद, बादशाह -बीबी संवाद, बादशाह -सलावात संवाद, अमर सिंह-बादशाह का संवाद, बादशाह -अमर सिंह का सरिक संवाद को पारम्परिक रम्मत गायकी के माध्यम से रम्मत कलाकारो ने प्रस्तुत किया। रम्मत के मंचन के दौरान नगाडा तथा छमछमा को वाहय यंत्र के रूप मे संगत रही।

इन्होने निभाई भूमिकाऐं 
वीर रस प्रधान अमर सिंह राठौड की रम्मत के मंचन में वैशाली ने जोगमाया, बाबुलाल पडिहार ने अमर सिंह राठौड, हरिनारायण राठौड ने हाडी रानी, उमेश सोनगरा ने बादशाह सुनिल पडिहार ने बीबी, भीमसेन ने रामसिंह, बाल किशन राठौड ने सलावत, किशन पडिहार ने हरकारा की भूमिकाऐं निभाई।         

Amar Singh Rammat, Tradition Media, Ramat Art, Bikaner Rammat,

Share this news

Post your comment