Friday, 13 December 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  5268 view   Add Comment

अघी होंगें अमेरिका-भारत कारोबारी परिषद के नये अध्यक्ष

अमेरिकी चैम्बर ऑफ कामर्स ने संगठन में डॉ. मुकेश अघी का स्वागत किया

अमेरिका-भारत कारोबारी परिषद (यूएस-इंडिया बिजनेस कौंसिल या यूएसआईबीसी) ने आज डॉ. मुकेश अघी को नया प्रेसिडेंट बनाए जाने का एलान किया। डॉ. अघी अपने साथ परिषद में अंतरराष्ट्रीय कारोबार में सघन एक्जीक्यूटिव अनुभव तथा भारत और अमेरिका – दोनों में कारोबार और नीतियों अनुभव रखते हैं।  

यूएसआईबीसी के चेयरमैन और प्रेसिडेंट तथा मास्टर कार्ड के सीईओ  अजय बंगा ने कहा, “मुकेश अघी का अनुभव अमूल्य होगा और यह यूएसआईबीसी का नेतृत्व करते हुए अमेरिका भारत के द्विपक्षीय संबंधों के लिए कारोबारी संबंधों को मजबूत करने और विस्तार देने में काम आएगा।”
यूएस चैम्बर के प्रेसिडेंट और सीईओ थॉमस जे डोनोहुए ने कहा, “हम डॉ. अघी की प्रतिभा और नेतृत्व के गुणों को यूएसआईबीसी में लाते हुए खुशी हो रही है क्योंकि अब कौंसिल इन दोनों महत्त्वपूर्ण अर्थव्यवस्थाओं का आगे और विकास कर रहा है।”

डॉ. अघी ने कहा, “अमेरिका और भारत के बीच रणनीतिक साझेदारी ना सिर्फ दोनों देशों के बीच लाभप्रद है बल्कि दुनिया भर की आर्थिक संपन्नता के लिहाज से भी महत्त्वपूर्ण है। उन्होंने आगे कहा, “यूएसआईबीसी टीम का भाग बनकर मैं सम्मानित हुआ हूं और खुश हूं।”

प्रेसिडेंट के रूप में डॉ. अघी परिषद की रणनीतिक दिशा और नीति संबंधी प्राथमिकताओं का नेतृत्व करेंगे और इसका उददेश्य है द्विपक्षीय वाणिज्यिक संबंधों को बेहतर करना। डॉ. अघी यूएसआईबीसी से औपचारिक तौर पर मार्च में जुड़ेंगे।

डॉ. अघी के कैरियर में ऐसे पद शामिल हैं जब उन्होंने प्रतिष्ठा वाला अमेरिकी और भारतीय टेक्नालॉजी कंपनी में अंतरराष्ट्रीय विकास और परिचालन का नेतृत्व किया है। मुख्य रूप से निजी क्षेत्र में काम करते हुए उन्होंने अमेरिका और भारत की सरकारों के साथ वरिष्ठ स्तर पर प्रभावी ढंग से काम किया है।
डॉ. अघी इस समय एलएंडटी इंफो टेक के मुख्य कार्यकारी और निदेशकमंडल के सदस्य हैं। इससे पहले वे स्टीरिया एशिया पैसेफिक के चेयरमैन और सीईओ, आईबीएम इंडिया के प्रेसिडेंट के रूप में काम कर चुके हैं और उच्च तकनालाजी वाली कंपनियों के साथ रहे हैं। इनमें जेडी एडवार्ड्स और एरिबा शामिल है। उनकी तैनाती फ्रांस, इंग्लैंड, जापान, सिंगापुर, भारत और अमेरिका में रही है।    

यूएसआईबीसी के चेयरमैन और प्रेसिडेंट तथा मास्टर कार्ड के सीईओ  अजय बंगा ने आगे कहा,  “एक महत्त्वपूर्ण समय में और इसमें भारत में नई सरकार का गठन शामिल है, यूएसआईबीसी का काम-काज संभालने के लिए मैं कार्यवाहक प्रेसिडेंट डियाने फैरल का शुक्रिया अदा करता हूं। हम उनकी अग्रणी स्थिति की उन्मीद करते हैं जब वे डॉ. अघी के साथ यूएसआईबीसी के महत्त्वाकांक्षी एजंड़ा पर काम करेंगे।”

नई सरकार बनने के दौरान यूएसआईबीसी ने कई हाईप्रोफाइल काम किए। इनमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मेजबानी शामिल है जब वे अमेरिका के दौरे पर थे। इसके आलावा, वाइब्रैंट गुजरात 2015 में अब तक के सबसे बड़े अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया तथा सदस्यता का विस्तार किया।

विदित रहे यूएसआईबीसी का गठन 1975 में अमेरिकी और भारत की सरकारों के आग्रह पर किया  गया था। अमेरिका भारत कारोबारी परिषद (यूएसआईबीसी) एक प्रमुख कारोबारी एडवोकेसी संगठन है जो अमेरिका भारत के व्यावसायिक संबंधों को आगे बढ़ाता है। अमेरिका में आज यह सबसे बड़ा द्विपक्षीय कारोबारी संगठन है और लायजन के लिए इसकी उपस्थिति न्यूयॉर्क, सिलिकॉन वैली तथा नई दिल्ली में है। इसमें अमेरिका और भारत की 325 सर्वोच्च स्तर की कंपनियां शामिल हैं।

Share this news

Post your comment