Sunday, 22 October 2017

सार्थक उपयोग ही सूचना के अधिकार का महत्व-डॉ. राठौड

जयपुर।  कानून सभी के लिये बना है, जरूरत है जनता में इसकी जागरूकता लाने की। सार्थक उपयोग से सूचना के अधिकार को अमल में लाया जा सकता है। इसके लिये जन चेतना की आवश्यकता है। डॉ. राठौड आज नागरिक मंच धौलपुर द्वारा सूचना के अधिकार पर संगोष्ठी के आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित कर रहे थे। डा. राठौड ने कहा कि सूचना के अधिकार का सूत्रपात राजस्थान से हुआ है और इसका पंचायत राज में भी विवरण है। उन्होंने बताया कि सूचना आमजन के हितों के लिए होती है। इसकी अवधारणा सार्वजनिक हित में आमजन के लिए होनी चाहिये न कि किसी संस्था के लिये। उन्होंने बताया कि इस अधिकार के अन्तर्गत व्यक्ति की मंशा सही होनी चाहिए और खुद से संबंधित जानकारी मांगनी चाहिए लेकिन वर्तमान में इसका दुरूपयोग अधिक हो रहा है। नागरिक देश हित में चितंन करें तो इसका सही उपयोग संभव है।  इस अवसर पर संगोष्ठी के अध्यक्ष  के रूप में बोलते हुए जिला कलक्टर मन्मथ कुमार ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को इस कानून का उपयोग करना आना चाहिए।  जर्नलिस्ट आफ राजस्थान जार के सदस्यों द्वारा  राठौड का अभिनन्दन किया । जार के सदस्यों  नें अपनी समस्याओं से डा. राठौड को अवगत कराया। कार्यक्रम के पश्चात राठौड ने स्थानीय सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय का अवलोकन किया तथा अधिकारी एवं कार्यालय के कर्मचारियों से समस्याओं के बारे में चर्चा की। सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी हरिओम सिंह गुर्जर एवं कर्मचारियों द्वारा  राठौड का माल्यापर्ण कर स्वागत किया किया ।

Director of DIPR Jaipur Dr.Rathore.Jar Association