Tuesday, 24 October 2017

भैरवाष्टमी पर होगा रूद्राभिषेक

भैरव मन्दिरों में होगी पूजा-अर्चनाएं

बीकानेर। भैरवाष्टमी महापर्व 18 नवम्बर को मनाया जाएगा। इस अवसर पर घर-घर एवं मन्दिरों में स्थापित भैरवनाथ की प्रतिमाओं तेल, सिन्दूर, बर्ग, मालिपाना सहित विविध पूजन सामग्रियों के साथ भैरूनाथ की पूजा-अर्चना कर महाआरती की जाएगी। शहर में स्थापित नत्थूसर गेट गोकुल सर्किल सियाणा-कोडाणा भैरव मन्दिर, तोलियासर गली स्थित तोलियासर भैरव, ओझा गली स्थित सियाणा भैरव मन्दिर, मोहता का चौक, तेलिवाडा, लक्ष्मीनाथ घाटी स्थित, मुरलीधर व्यास नगर, सुजानदेसर सहित गली मोहल्लों में स्थित भैरव मन्दिरों में भैरवनाथ की पूजा-अर्चना के साथ धार्मिक अनुष्ठानों के आयोजन होंगे। भैरव मन्दिरों में भैरव स्त्रोत पाठ, भैरव चालीसा सहित भक्ति संगीत कार्यक्रमों के आयोजन होंगे। भैरवाष्टमी पर नत्थुसर गेट स्थित शिव शक्ति साधना पीठ के अधिष्ठाता एवं भैरव उपासक मनमोहन किराडू के सान्निध्य में भैरवाष्टमी महापर्व मनाया जाएगा। मदन मोहन व्यास ने बताया कि इस अवसर पर भैरूनाथ का चमेली के तेल से 11 पंडितों के आचार्यत्व में महाभिषेक किया जायेगा तथा छप्पन भोग का प्रसाद चढ़ाया जायेगा। भैरवाष्टमी पर शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ डूंगरगढ़, बिग्गा बास, तोलियासर गांव में स्थित तोलियासर भैरव, कोडमदेसर गांव स्थित कोडमदेसर भैरव, तथा सियाणा गांव में स्थित सियाणा भैरव की प्रतिमाओं की पूजा-अर्चनाओं के साथ महाआरती, महाप्रसाद के आयोजन होंगे। बड़ी संख्या में श्रद्धालु विभिन्न साधनों के साथ-साथ पदयात्रा के माध्यम से भी दर्शनाथ हेतु पहुंचेगें। भैरवाष्टमी के लिए भैरव मन्दिरों को रंग रोगन करवाने के साथ भव्य रूप से सजाया जा रहा है। भैरवाष्टमी के अवसर पर भैरू नाथ के छप्पन भोग के साथ-साथ मोगरी का चूरमा व पकौड़ों का विशेष रूप से भोग लगाया जाएगा।

Barwashtmi