Tuesday, 17 October 2017

वेदमंत्रों-जयकारों से गूंजी मरुनगरी

महावीरजी की शोभायात्रा निकाली, महायज्ञ में दी आहुतियां

बीकानेर। कार्तिक मास की पूर्णिमा के अवसर पर गुरुवार को मरुनगरी बीकानेर में वेद मंत्रों की गूंज व जयकारे गूंजते रहे। पूर्णिमा पर धार्मिक अनुष्ठानों का अलसुबह से शुरू हुआ सिलसिला शाम तक जारी रहा। कार्तिक मास की पूर्णिमा के अवसर पर श्री चिंतामणी जैन मन्दिर प्रन्यास की और से भगवान महावीर की शोभायात्रा निकाली गई। चिंतामणी जैन मन्दिर से प्रारम्भ हुई यह शोभायात्रा नाहटा चौक, गोलछा मौहल्ला, खंजाची मौहल्ला, रामपुरिया मौहल्ला, आसाणियां व बांठियों के चौक से होती हुई गोडी पाश्र्वनाथ मन्दिर पहुंचकर सम्पन्न हुई। शोभायात्रा में शामिल विभिन्न मंडलियां ने भजनों की प्रस्तुतियां जयकारों के साथ दी।
यज्ञशाला का शुभारम्भ : बीछवाल रोड़ स्थित तीसरी आर.ए.सी. बटालियन परिसर में नवनिर्मित यज्ञशाला का शुभारम्भ एवं एक कुण्डीय विष्णु महायज्ञ का आयोजन पं. रामेश्वर ओझा के आचार्यत्व में सम्पन्न हुआ। इससे पूर्व दुर्गा मन्दिर से शोभायात्रा निकाली गई। 11 वेदपाठी ब्राह्मणों के सामुहिक मंत्रोच्चारण के साथ मण्डप प्रवेश, द्वार पूजन, यज्ञशाला पूजन, मण्डपस्थ देवता पूजन एवं महायज्ञ में आहुतिया दी गई।
पंचभीखा महाव्रत की पूर्णाहुति : कार्तिक मास की एकादशी से शुरू हुआ पंच दिवसीय पंचभीखा महाव्रत की पूर्णाहुति गुरुवार को हुई। पूर्णाहुति के दिन व्रतधारी महिलाओं ने सपरिवार यज्ञ में आहुतिया दी व बड़े-बुजुर्गों से आर्शीवाद प्राप्त किया। हालांकि व्रत की पूर्णाहुति गुरुवार को हुई मगर व्रत का पारणा शुक्रवार अलसुबह दान-पुण्य के बाद करेगी। कार्तिक मास की पूर्णिमा के अवसर पर ही चौमासा व्रत करने वाली महिलाओं ने व्रत की पूर्णाहुति यज्ञ में आहुतिया प्रदान कर की।

Jaykaron Mrunagri