Monday, 11 December 2017

डिजीटल मीडिया ने बदली लोगों की जीवन शैलीः गहलोत

डिजिटल मीडिया की पांच दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन

बीकानेर (संवाद)।  डिजिटल मीडिया ने लोगों की जीवन  शली को पूर्णतया बदल दिया है। एक समय था जब हम अपने सभी कार्य मेनुअली किया करते थे, जिसमें काफी त्रुटियां रहने की सम्भावना रहती  थी और समय भी बहुत लगता था। लेकिन आज हम अपने कार्य का एक बडा हिस्सा डिजिटल मीडिया  के उपयोग के माध्यम से करते हैं। इससे हमारी जीवनशैली आसान हुई है वहीं हमारे कार्य का रिकार्ड ज्यादा सुरक्षित रहने लगा है।  यह विचार राजस्थान वेटरनरी विश्व विद्यालय के कुलपति प्रो. ए के गहलोत ने  मंगलवार को स्थानीय राजकीय डूंगर महाविद्यालय में चल रही साइंस कम्यूनिकेशन थ्रो डिजिटल मीडिया की पांच दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में कही।  प्रो. गहलोत ने अपने ज्ञानवर्धक एवं रोचक संस्मरण सुनाए।  उदघाटन सत्र के मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान के पूर्व अध्यक्ष प्रो. डॉ. पीसी व्यास ने कहा कि डिजिटल साक्षरता वर्तमान समय की जरूरत बन गई है। जो लोग इसका उपयोग कर रहे हैं आगे बढते जा रहे हैं और जो लोग अभी तक इसको नही अपना सके  हैं वे अपन आपको उनकी तुलना में पिछडा हुआ महसूस कर रहे हैं। डॉ. व्यास ने अपने  प्रजेन्टेशन के माध्यम से प्रतिभागियों के उत्साह को कई गुना बढा दिया। कार्यशाला के पहले दिन रजिस्ट्रेशन के बाद तकनीकी सत्र में प्रतिभागियों का परिचय हुआ और उनके ग्रुप बनाने के बाद कार्यशाला संयोजक तरूण के जैन ने कार्यशाला के उद्देश्यों पर प्रकाश  डाला और  कार्यशाला की रूपरेखा समझाई। बाद में जयपुर से आए कम्प्यूटर विशेषज्ञ उमेश कुमार सोनी ने डिजिटल मीडिया की बेसिक जानकारी प्रतिभागियों को दी। बुधवार को  प्रतिभागियों को  नेटवर्किंग की जानकारी देते हुए अपना प्रजेन्टेश बनाना और विज्ञान संचार में उसका उपयोग करना सिखाया जाएगा।

 

Digital Media   Dunger college   Science Communication   A K Gahlot