Monday, 23 October 2017

पचास प्रतिशत विद्यार्थी रहे प्रवेश से वंचित

आर्ट्स मे सर्वाधिक रहे वंचित

बीकानेर, महाविद्यालय मे चल रही प्रवेश प्रकिया के तहत शहर के दोनों डुंगर व एमएस सरकारी महाविद्यालयों मे प्रथम वर्ष मे प्रवेश लेने वाले पचास प्रतिशत प्रवेश लेने से वंचित रह गये। इन दोनो महाविद्यालयों मे प्रथम वर्ष के लिए तीनों संकायों कला, वाणिज्य,  विज्ञान मे कुल 3360 सीटों के लिए 6582 छात्र छात्राओं ने आवेइन भरे।

आवेदन पत्रों की जांच के बाद तैयार की गई सीटों की अनुसार वरीयता में 3360 की सची बनने 3232 विद्यार्थि सरकारी कॉलेज मे प्रवेश लेने से वंचित रह गये। प्रथम वर्ष के लिए सोमवार देर शाम तक जारी की गयी सूचियों मे अपना नाम देखने का भारी उत्साह रहा। 
डुंगर महाविद्यालय एवमं एमएस कन्या महाविद्यालय मे सूबह से शाम तक आवेदन पत्रों की जांच एवमं सूचियों को बनाने के लिए संकायों अनुसार गठित टीमों ने सूचियों का अन्तिम रूप दिया। 

आर्ट्स मे सर्वाधिक रहे वंचित
डुंगर एव एमएस महाविद्यालय मे प्रथम वर्ष बी.ए. प्रवेश के लिए वाणिज्य एवमं विज्ञान संकाय की बजाय कला संकाय विद्यार्थि प्रवेश लेने से वंचित रहे। डुंगर महाविद्यालय मे प्रवेश लेने के लिए कुल 1440 सीटों के 6352 आवेदन प्राप्त हुए। 2212 छात्र छात्राऐं सीटों की कमी के चलते डुंगर कॉलेज मे प्रवेश नहीं ले पायेंगें वहीं एमएस कॉलेज मे बीए प्रथम वर्ष के लिए 560 सीटों के लिए 949 आवेदन पत्र प्राप्त हुए यहां 389 विधार्थी प्रवेश से वंचित रह गयें। दोनों सरकारी महाविद्यालयों मे बीए प्रथम वर्ष के लिए कुल 2000 सीटों के लिए 4601 आवेदन प्राप्त हुए जिनमें से 2601 सरकारी कॉलेज सीटों की कमी की वजह से प्रवेश से दूर रहे। कला संकाय के बाद वाणिज्य संकाय मे विधार्थी प्रवेश से वंचित रह गये हैं एमएस कॉलेज मे बी.कॉम प्रथम वर्ष के लिए 160 सीटों के 226 आवेदन प्रत्र प्राप्त हुए यहां 66 विद्यार्थी वंचित रहे वहीं डूंगर कॉलेज मे बी.कॉम प्रथम वर्ष के लिए 400 सीटों के 820 आवेदन प्रत्र हुए और 420 विद्यार्थी प्रवेश से वंचित रह गये। 
विज्ञान संकाय मे भी छात्र छात्राओं को इन सरकारी कॉलेजों से निराशा ही हाथ लगी। डूंगर कॉलेज मे बीएससी प्रथम 560 सीटों के लिए 663 आवेदन प्रत्र प्राप्त हुए यहां 103 विद्यार्थी तथा एमएस कॉलेज मे बीएससी प्रथम वर्ष 210 सीटों के लिए 272 अर्थात 62 विद्यार्थी वंचित रह गये। 
सीटो के अभाव मे पचास प्रतिशत विद्यार्थीयों के वंचित रहने से कॉलेजे प्रशसन चिंतित है और विद्यार्थी मे निराश है। कॉलेज प्रशसन राज्य सरकार को इसकी सूचना प्रेषित अतिरिक्त सीटों की मांग कर सकता है। वहीं सीटों के अभाव मे बीए, बीएसी व बीकॉम मे प्रथम वर्ष मे प्रवेश लेने वाले छात्र छात्राओं ने सरकारी कॉलेजों से निराश हाथ लगने के बाद निजि महाविद्यालयों मे प्रवेश लेने को मजबूर है। 
 

Bikane Cut off List   Dunger College   M S College   College Admission