Friday, 06 December 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  2043 view   Add Comment

श्रमिक वर्ग सरकारी शोषण का शिकार - सिंह

भामस का 21वां प्रादेशिक अधिवेशन शुरू

बीकानेर, भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष करतार सिंह ने कहा है कि देश में वर्तमान में श्रमिकों की स्थिति दयनीय है। निजी क्षेत्र के साथ साथ श्रमिकों की स्थिति दयनीय है। निजि क्षेत्र के साथ साथ श्रमिक वर्ग सरकारी शोषण का भी शिकार है। शनिवार को भारतीय मजदूर संघ के 21वें प्रादेशिक अधिवेशन के उद्घाटन अवसर पर उन्होने कहा कि देश की वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए श्रमिक संगठनों को एकजुट होने की आवश्यकता है। श्रमिकों के हालात बद से बदत्तर होते जा रहे है। करतार सिंह ने कहा कि देश मे श्रमिकों को वाजिब हक नही मिल रहा है। सरकारी योजनाओं के लाभों से भी श्रमिक वर्ग वंचित है। केन्द्र व राज्य सरकारेां की श्रमिक वर्ग विरोधी नितियों से श्रमिक आहत है। बीकानेर सांसद अर्जूनराम मेघवाल ने कहा कि वैश्वीकरण के इस युग मे केन्द्र व राज्य सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों के चलते श्रमिकों को शोषण हो रहा है। उन्होने कहा कि देश एक बार और मल्टीनेशनल कंपनियों के बढ रहे जाल के कारण गुलामी की और जा रहा हैं। सांसद ने कहा कि केन्द्र सरकार श्रमिकों के हितों को अनदेशी कर रही है। श्रमिक संगठन श्रमिकों के उत्थान एवं विकास के लिए एकजुट होकर कार्य करे। ताराचन्द सारस्वत ने केन्द्र व राज्य सरकारों से श्रमिकों की समस्याओं के निस्तांतरण का आह्वान किया। इससे पूर्व भामस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष करतार सिंह राठौड, सांसद अर्जुनराम मेघवाल ने अधिवेशन का दीप प्रज्जवलित कर उद्घाटन किया। गौरी शंकर व्यास ने अधिवेशन की रूपरेखा पर प्रकाश डाला। 

अधिवेशन मं प्रदेश के 33 जिलों से 219 पंजीकृत यूनियनों एवं 42 महासंघों के प्रतिनिधि भाग ले रहे है। इसके साथ प्रदेशभर से रेल्वे, डाक प्रतिरक्षा, बैंक एवं ग्रामीण बैंक, खान खनिज, विद्युत, जलदाय, सिंचाई, स्वायत्तशासी, पीडब्ल्युडी, सार्वजनिक प्रतिष्ठान राज्य कर्मचारी, खेतीहर, परिवहन निगम, राज्य कर्मचारी, ग्राम साथिन, आंगनबाडी आदि संगठनों के प्रमुख श्रमिक प्रतिनिध भाग ले रहे है।

Share this news

Post your comment