Tuesday, 22 October 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  3141 view   Add Comment

एमपी व कलेक्टर को शीघ्र नियुक्ति की मांग का सौंपा ज्ञापन

कनिष्ठ लिपिक भर्ती परीक्षा 2011 में चयनित अभ्यर्थी अभी भी बेरोजगार

बीकानेर। कनिष्ठ लिपिक भर्ती परीक्षा में चयनित अभ्यर्थियों का एक शिष्टमण्डल बीकानेर सांसद अर्जुनराम मेघवाल व जिला कलक्टर आरती डोगरा से मिला और चयनित अभ्यर्थियों को अधिनस्थ कार्यालय में शीघ्र ही नियुक्ति दिलाने की मांग को लेकर एक ज्ञापन सौंपा।
शिष्टमण्डल के मुकेश पुरोहित ने बताया कि आर.पी.एस.सी. द्वारा आयोजित कनिष्ठ लिपिक भर्ती परीक्षा 2011 में चयनित अभ्यर्थियों का अन्तिम परीक्षा परिणाम 25 सितम्बर 2013 को घोषित हो गया था लेकिन उसके चार महीने से भी अधिक समय व्यतीत होने के बाद भी आज तक अधिनस्थ कार्यालय में चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति नहीं मिली है। जबकि सचिवालय व त्च्ैब् के अधीन चयनितों के नियुक्ति आर्डर जारी हो चुके है सिर्फ अधिनस्थ कार्यालय  में चयनित बेरोजगारों के साथ अन्याय किया जा रहा है। उच्च प्रशासनिक अधिकारियों की उदासीनता व आपसी सामंजस्य के अभाव नियुक्ति प्रक्रिया को लटका रखा हैं। पिछले 62 दिनों से नियुक्ति सम्बंधी प्रक्रिया की फाईल कार्मिक विभाग में ही उच्चाधिकारियों की हठधर्मिता की वजह से अधरझूल में लटकी पड़ी है बार-बार निवेदन करने पर यही आश्वासन मिलता है कि इस सप्ताह आपको नियुक्ति दे दी जायेगी।
राजेश किराड़ू ने बताया कि एक माह पूूर्व प्रदेश भाजपा कार्यालय में चिकित्सा मंत्री राजेन्द्र राठौड़ व मुख्य सचिव, अति. मुख्य सचिव महोदय से अनुरोध कर चुके है पर हमें कोई संतोषप्रद जवाब नहीं मिला। हमने मुख्यमंत्री महोदया से जनसुनवाई के अवसर पर मिलने पर उन्होंनें तीन दिन में हमें नियुक्ति देने का आश्वासन दिया व अपने निजी सचिव केके पाठक को भी तीन दिन में हम अभ्यर्थियों को नियुक्ति दिलवाने का आदेश दिया। सचिवालय में सम्बंधित अधिकारी ने हमें आश्वासन दिया कि आपको मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार तीन दिन में विभाग आंवटित कर नियुक्ति आदेश जारी कर दिये जायेंगंे। परन्तु प्रशासनिक उदासीनता के चलते आज तक हमारी नियुक्ति प्रक्रिया वहीं अटकी पड़ी है।
जगदीश सोनी ने बताया कि पूर्व में विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने से हमे नियुक्ति नहीं मिली थी अगर हमें अभी नियुक्ति मिली तो आगे फिर लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने वाली है जिससे हमें फिर से तीन चार माह तक नियुक्ति नहीं मिल सकेगी। नियुक्ति के इन्तजार में हम कोई दूसरा कार्य भी नहीं कर पा रहे है और रोजगार होते हुए भी बेरोजगार है।
शिष्टमण्डल में राजेश किराड़ू, मुकेश पुरोहित, विकास गहलोत, जगदीश सोनी, तेजेन्द्र बरार, धर्मवीर, पुनीत जोशी, मनीष पंवार, रोहित स्वामी, मनीष पारीक, राजेन्द्र तिवाड़ी, मरूधरा शंकर श्रीमाली आदि शामिल थे। 
 

Share this news

Post your comment