Friday, 19 July 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  5565 view   Add Comment

अन्तर्राष्ट्रीय शाॅर्ट फिल्म फेस्टिवल का उद्घाटन 20 दिसम्बर को

तीस शार्ट फिल्मों का प्रदर्शन होगा

बीकानेर16 दिसम्बर 2014। बीकानेर की सांस्कृतिक संस्था लोकायन तथा हंसा गेस्ट हाउस चैरिटेबल ट्रस्ट के संयुक्त तत्वाधान में बीकानेर में पहली बार 20 व 21 दिसम्बर 4 को ‘सेण्ड ड्यून इंटरनेशनल शार्ट फिल्म फेस्टिवल’ का आयोजन होने जा रहा है। नवनिर्मित हंसा आॅडिटोरियम में  आयोजित होने वाले इस फिल्म फेस्टिवल में डाॅक्यूमेंटरी, एनिमेशन, शार्ट फिल्म के अलावा राजस्थानी भाशा में बनी लघु फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा। इस दो दिवसीय महोत्सव में बंगाली, आसामी, मराठी, तेलगु, तमिल, हिन्दी के अलावा स्पेनिश, जापानी तथा अंग्रेजी की लगभग 100 से अधिक फिल्मों ने नामांकन करवाया और महोत्सव के दौरान लगभग 50 चयनित शार्ट फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा। 

फेस्टिवल निदेशक सुनील जोशी ने बताया कि दिनांक 20 दिसम्बर को फेस्टिवल का उद्घाटन सुबह 10 बजे उ. प. रेल्वे के बीकानेर मंडल की डीआरएम मंजु गुप्ता, वेटेरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ए.के. गहलोत, लोकायन के अध्यक्श एवं मिनिएचर आर्टिस्ट महावीर स्वामी एवं हंसा गेस्ट हाउस चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्श हंसराज डागा के कर कमलों द्वारा होगा। उद्घाटन अवसर पर इंग्लंेड की प्रसिद्ध अवार्ड विनिंग रोमांटिक शार्ट फिल्म ‘लव एट फस्र्ट साइट’ का विशेश प्रदर्शन किया जाएगा। इसके साथ ही बीकानेर के कलाकारों द्वारा बनायी गयी शार्ट फिल्म ‘जमीर’ और एनिमेशन फिल्म ‘स्वच्छ मेन’ का भी विशेश प्रदर्शन होगा।
फेस्टिवल समन्वयक गोपाल सिंह चैहान के अनुसार फेस्टिवल के पहले दिन लगभग तीस शार्ट फिल्मों का प्रदर्शन होगा जिसमें स्पेन की ‘एब्रिएन्डो प्योरेटस’, ‘हू इज इन ड्रीम आॅफ बर्टा’, ‘एल पींटोर दे सोम्ब्रास’ तथा ‘एल माल एमोर’ के अलावा ऐनिमेशन फिल्में ‘द ट्री हगर’ तथा ‘मरीन ड्राइव’ का प्रदर्शन किया जाएगा। इसी दिन बंगाली भाशा की शार्ट फिल्में ‘चेक मेट’, ‘मुखोमुखी’, ‘दोयीता’ तथा ‘मांगलिक’ दिखाई जाएगी। इन शार्ट फिल्मों के अलावा असामी भाशा की ‘रतिपूवा’, मलयालम भाशा की ‘कानेरूकूल’, हिन्दी भाशा की ‘जेल बर्ड’, ‘अ डिजायर टू फ्लाई’ ‘मिल गए कदम’, ‘हू इज’ तथा ‘अपाॅर्च्यूनिटी’ नामक शार्ट फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा। 

इस अवसर पर शाम को 6 बजे राजस्थान के जोगिया और कालबेलिया जन जातियों पर दिल्ली की फिल्म मेकर सौम्या शर्मा द्वारा बनायी गई डाॅक्यूमेंट्री ‘ताण बेकरो’ का फस्र्ट प्रीमियर भी आयोजित किया जाएगा। शाम को 7 बजे आयोजित होने वाली संगीत संध्या में दिल्ली के गायक और गिटारिस्ट हरप्रीत सिंह एवं चंडीगढ़ के बेंड ‘जस्ट इत्तेफाक’ की निदेशक जसलीन आॅलख अपनी सूफी गायकी का प्रदर्शन करेगें। 

फेस्टिवल के दूसरे दिन 21 दिसम्बर को राजस्थानी भाशा को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से राजस्थानी भाशा में बनी फिल्मों ‘सौदो’, ‘सांची बात काचै दूध रे साथ’, ‘म्हारी डीकरी’ दिखाई जाएगी तथा रामकुमार सिंह द्वारा लिखित और गजेन्द्र एस. श्रोत्रिय द्वारा निर्देशित राजस्थानी की प्रसिद्ध फिल्म ‘भोभर’ का विशेष प्रदर्शन किया जाएगा। 

राजस्थानी के अलावा समापन दिवस पर अन्य भाषओं की लगभग 15 फिल्मों का भी प्रदर्शन किया जाएगा। फेस्टिवल का समापन और अवार्ड समारोह 21 दिसम्बर की शाम को 7 बजे आयोजित होगा जिसमें प्रत्येक वर्ग की सर्वश्रेश्ठ फिल्मों को नगद पुरस्कार, ट्राॅफी व प्रशस्ती पत्र पुरस्कार के रूप में दिये जाएगें। फेस्टिवल में भाग लेने के लिए चयनित फिल्मों के सभी निदेशक अपनी टीम के साथ बीकानेर आ रहे हैं।

हंसा गेस्ट हाउस चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्श हंसराज डागा ने जानकारी दी कि इस दो दिवसीय फिल्म फेस्टिवल के निर्णायकों के रूप में मुम्बई से देश के प्रसिद्ध फिल्म निदेशक और प्रोड्यूसर मोहन दास, काॅमेडियन गुरपाल सिंह, तेरे नाम और फंस गये रे ओबामा फिल्मों में काम कर चुके गोपाल तिवारी और बीकानेर की प्रसिद्ध रंगकर्मी और उद्घोषक मंदाकिनी जोशी हिस्सा लेगें। 
 

 

Gurpal Singh, Jasleen Aulakh, Harpal Singh, Short Film Festival, Lokayan, Gopal Singh,

Share this news

Post your comment