Wednesday, 21 August 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  4554 view   Add Comment

स्पास्टिक बच्चें भी हमारे समाज का मुख्य अंग : जैन

जुबिन स्पास्टिक ट्रस्ट ने किया नेशनल ट्रस्ट की ओर से 24 स्पास्टिक बच्चों को हैल्थ इश्योरेंश

 स्पास्टिक बच्चें भी हमारे समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं, जिन्हें उसी तरह जीने का अधिकार है, जैसे आम बच्चें जीते हैं। यह बात मंगलवार को जुबिन स्पास्टिक होम एंड चैरिटेबल ट्रस्ट के सभागार में नेशनल ट्रस्ट की ओर स्पास्टिक बच्चों को हैल्थ इश्योरेंश (निरामिया कार्ड) के वितरण के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यतिथि एडवोकेट एस.के. जैन ने कहीं। उन्होंने कहा कि स्पास्टिक बच्चों की सेवा ही सच्ची सेवा हैं और मेरे ख्याल से इससे बढक़र कोई और बेहतर सेवा नहीं हैं। क्योकि जो बच्चे सही तरीके से बोल व चल भी नहीं सकते, वे बच्चे यहां आकर इलाज कराकर अपने पांवों पर खड़े हो जाते हैं। इससे बड़ी अचम्भित बात और क्या होगी। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट के अध्यक्ष डॉ. दर्शन आहूजा व सचिव विनीता आहूजा की ही यह कड़ी मेहनत का फल हैं कि यहां आकर स्पास्टिक बच्चों को एक नया रूप मिलता है और वे आम बच्चों की तरह ही व्यवहार करते हैं। कार्यक्रम से पूर्व आए हुए अतिथियों ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रवज्जलित किया एवं नर्सिंग छात्राओं ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। वहीं कार्यक्रम के दौरान स्पास्टिक बच्चों की ओर से एक एग्जीबिशन भी लगाई गई, जिसमें बच्चों द्वारा निर्मित घरेलू वस्तुओं का प्रदर्शन किया गया। जिसे आए हुए अतिथियों ने खूब सराहा। वहीं स्पास्टिक बच्चों ने कार्यक्रम में सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी तथा फैंसी डे्रस प्रतियोगिता में भी भाग लिया। इसके बाद मुख्यतिथि एडवोकेट एस.के जैन, विशिष्ट अतिथि डॉ. रीता बेदी, ट्रस्ट अध्यक्ष डॉ. दर्शन आहूजा व सचिव विनीता आहुजा ने नेशनल ट्रस्ट की ओर से 24 स्पास्टिक बच्चों को अभिभावकों के समक्ष हैल्थ इश्योरेंश (निरामिया कार्ड) सौंपा। कार्यक्रम में डॉ. विनीता आहूजा ने कहा कि स्पास्टिक होना कोई अभिशाप नहीं हैं, इसलिए इसे बोझ न समझे, बल्कि बच्चों की केयर करते हुए उन्हें आम जिंदगी जीने केे लिए प्रेरित करें। वहीं उन्होंने बताया कि हैल्थ इश्योरेंश (निरामिया कार्ड) के द्वारा बच्चों के हैल्थ के लिए एक लाख तक का बीमा लाभ मिलता हैं। कार्यक्रम का सफल संचालन डॉ. दिनेश सारस्वत, डॉ. रिंकू कुमार तथा मंच सचालन डॉ. लवप्रीत कौर ने किया। वहीं कार्यक्रम के समापन मौके पर बच्चों को पुरस्कार वितरित किया गया तथा अतिथियों को भी जुबिन स्पास्टिक होम एंड चैरिटेबल ट्रस्ट की ओर से स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
 

 

spastic children, Home Product, DR Rinku kumar, darshan aahuja, laoveprit kaur,

Share this news

Post your comment