Tuesday, 23 July 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  1200 view   Add Comment

लघु समाचार पत्रों की भूमिका महत्वपूर्ण रही-शर्मा

आज भी इनकी प्रासंगिकता को नकारा नहीं जा सकता

बीकानेर। स्वतंत्राता सेनानी हीरा लाल शर्मा ने कहा कि देश में आजादी की अलख जगाने में लघु समाचार पत्रों की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण रही। आज भी इनकी प्रासंगिकता को नकारा नहीं जा सकता। वे शनिवार को राॅयल गार्डन में पाक्षिक समाचार पत्रा कोहिनूर की 48वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आजादी से पहले छोटे अखबारों ने ही देश को दिशा दिखाई। लोगों को संगठित किया। उनकी पकड़ घर-घर तक होती थी तथा लोगों को इन समाचार पत्रों का इंतजार रहता था। धीरे-धीरे समय बदल गया लेकिन आज भी लघु समाचार पत्रों को कम नहीं आंका जा सकता। अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) हजारी लाल ने कहा कि 47 वर्ष तक पाक्षिक समाचार पत्रा का नियमित संचालन करना कोई साधारण कार्य नहीं है। इस दौरान अनेक चुनौतियां आती हैं जिनका सामना करते हुए पत्रा का प्रकाशन अनवरत रखना अनुकरणीय है। विशिष्ट अतिथि पूर्व न्यासी अरविंद मिढ्ढा ने कहा कि बीकानेर की पत्राकारिता का इतिहास बेहद स्वर्णिम रहा है। यहां के पत्राकारों ने निर्भीक और निष्पक्ष पत्राकारिता की मिसाल प्रस्तुत की। वरिष्ठ पत्राकार अशोक माथुर, मधु आचार्य ‘आशावादी’, सुषमा बारूपाल और डाॅ राम बजाज ने भी विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने पर वरिष्ठ पत्राकार मधु आचार्य ‘आशावादी’, सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सहायक निदेशक विकास हर्ष, शतरंज के अंतर्राष्ट्रीय आॅर्बिटर शिवाजी आहूजा, समाजसेवी किशन लाल गहलोत, किशन लाल तंवर, राम किशन गोयतान तथा युवा पत्राकार रवि पुगलिया, को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन कमल रंगा ने किया। 
 

Newspaper, Bikaner, Rajasthan,

Share this news

Post your comment