Monday, 18 November 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  2403 view   Add Comment

पत्रकारिता विषयक पुस्तकों का लोकार्पण

जयपुर, पद्मभूषण श्री देवेन्द्रराज मेहता ने कहा कि आज समाचार पत्र में सामाजिक सरोकारों की चर्चा बहुत कम देखने में आती हैं। उन्होंने विज्ञान स्वास्थ्य और संस्कृति सम्बन्धी सामग्री को भी समाचार पत्रों में उचित स्थान देने की आवश्यकता पर बल दिया।

मेहता आज पिंकसिटी प्रेस क्लब में वरिष्ठ लेखक व पत्रकार डॉ. मनोहर प्रभाकर की पत्रकारिता विषयक दो पुस्तकों का लोकार्पण कर रहे थे। उन्होंने डॉ. प्रभाकर के पत्रकारीय लेखन पर चर्चा करते हुए कहा कि वे एक निष्पक्ष, निर्भीक, संतुलित, प्रामाणिक और संवेदनशील पत्रकार हैं।

पब्लिक रिलेशन्स सोसायटी ऑफ इण्डिया के जयपुर चैप्टर द्वारा आयोजित इस समारोह में मुख्य वक्ता समीक्षक डॉ. जीवन सिंह ने अपने उद्बोधन में डॉ. प्रभाकर के साहित्य एवं पत्रकारीय योगदान पर प्रकाश डालते हुए कहा कि लोकार्पित दोनों पुस्तकें पत्रकारिता विषयक अनेक अज्ञात प्रसंगों को उजागर करती हैं। ये पुस्तकें उदीयमान पत्रकारों के मार्गदर्शन की दृष्टि से तो महत्वपूर्ण हैं ही, साथ ही इनमें मानवता के लिए संघर्ष करने वालों के बारे में लिखा गया है ।

राजस्थान विश्वविद्यालय के जनसंचार केन्द्र के अध्यक्ष डॉ. संजीव भानावत ने कहा कि डॉ. प्रभाकर ने साहित्य, पत्रकारिता एवं जनसम्फ - तीनों ही क्षेत्रों में समान रूप से योगदान किया है। उन्होंने कहा कि डॉ. प्रभाकर ने सजग पत्रकार के रूप में निरन्तर स्वाध्याय करते हुए समाज को नई दिशा देने का प्रयत्न किया है।

पुस्तकों के लेखक डॉ. मनोहर प्रभाकर ने अपने वक्तव्य में कहा कि श्रेष्ठ लेखन के लिए प्रतिभा के साथ- साथ निरन्तर स्वाध्याय और अभ्यास अनिवार्य शर्त है।

Share this news

Post your comment