Wednesday, 16 October 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  1830 view   Add Comment

स्व. सिद्धराज को किया श्रद्धापूर्वक स्मरण

व्यास की प्रथम पुण्य तिथि

बीकानेर, पाक्षिक ’’दिशाकल्प’’ के संस्थापक संपादक डॉ.सिद्घराज व्यास की प्रथम पुण्य तिथि पर बुधवार को डॉ.सिद्घराज स्मृति शोध संस्थान, गंगाशहर की ओर से होटल मरुधर हैरिटेज में वरिष्ठ साहित्यकार भवानी शंकर व्यास ’’विनोद’’ व  पाक्षिक चौकसी के संपादक कजलीदास दास हर्ष का सम्मान किया गया। 

मुख्य अतिथि नगर निगम के महापौर भवानी शंकर शर्मा ने कहा कि डॉ.सिद्घराज व्यास साहित्य व पत्रकारिता के कर्मठ विद्वान थे। उनका व्यक्तित्व हास्य-विनोद से परिपूर्ण व मित्रवत व्यवहार व कर्मयोगी थे। उन्होंने कहा कि जिन मूल्यों के लिए उन्होंने पत्रकारिता का कार्य किया उनको आगे बढाने की दरकार है। 

महापौर ने कहा कि डॉ.व्यास सर्वधर्म समभाव को बढावा देने के लिए कार्य किया। इसीलिए उनको हिन्दुओं के साथ जैन समाज के मुनि व साध्वीवृंद भी पूर्ण सम्मान देते थे। हमें  सभी धर्म व मजहबों को सम्मान देते हुए बीकानेर की साम्प्रदायिक सौहार्द की प्रवृति को बढावा देना चाहिए। 

विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार शिवराज छंगाणी ने कहा कि डॉ.सिद्घराज के व्यक्तित्व में त्याग, तपस्या, दया, करुणा व परहित चिंतन था। उन्होंने अनेक लोगों को शिक्षित किया तथा आजीवन सच्चाई के सिद्घान्त पर चले हैं। 

अध्यक्षता करते हुए राजस्थानी भाषा साहित्य एवं संस्कृति अकादमी के अध्यक्ष श्याम महर्षि ने कहा कि डॉ.सिद्घराज ने अपना जीवन साहित्य, संस्कृति और पत्रकारिता को समर्पित किया। उन्होंने वर्तमान की व्यवसायिक पत्रकारिता से हटकर मिशन के रूप में स्वच्छ व प्रेरणादायक पत्रकारिता की। उन्होंने अपने कार्य व व्यवहार में कभी आदर्श मूल्यों से समझौता नहीं किया। वे सामाजिक सरोकार को अपने पत्र के माध्यम से उजागर किया। 

समारोह में अतिथियों ने साहित्यकार भवानी शंकर व्यास विनोद व पत्रकार कजलीदास हर्ष को शॉल ओढाया , श्रीफल व स्मृति चिन्ह प्रदान किया। संस्थान के संरक्षक भूराराम व्यास ने 2100-2100 रुपए की नकद राशि प्रदान की। कार्यक्रम का संचालन करते हुए युवा कवि संजय आचार्य ’’वरुण’’ ने कविताओं के माध्यम से डॉ.सिद्घराज के व्यक्तित्व एवं कृतित्व को उजागर किया। डॉ.उमाकांत गुप्त, सुश्री सुचित्रा चूरा व व प्रियंका व्यास तथा सम्मानित हुए       डॉ. भवानी शंकर व्यास तथा डॉ.कजलीदास हर्ष ने भी डॉ.सिद्घराज के संस्मरण सुनाएं। संस्थान की सचिव शीला व्यास और शांति लाल बोथरा ने भी संस्थान गतिविधियों की जानकारी दी। सूचना एवं जन सम्फ विभाग के सहायक निदेशक दिनेश सक्सेना ने आगन्तुकों का आभार व्यक्त किया। 

 

Share this news

Post your comment