Monday, 19 August 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  2193 view   Add Comment

पत्रकारों ने दिल्ली में जंतरमंतर पर दिया धरना

संसद की ओर हुए मार्च बीकानेर जार के पदाधिकारी हुए शामिल

 सुरक्षा कानून की मांग पर धरना

 

Journalist from all over India in Delhiबीकानेर,  पत्रकार सुरक्षा कानून व मीडिया आयोग के गठन की मांग को लेकर नेशनल यूनियन आॅफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया) एनयूजेआई की ओर से सोमवार 7 दिसंबर को दिल्ली के जंतरमंतर पर धरना दिया गया।

इस धरने में एनयूजेआई के राष्‍ट्रीय संगठन मंत्री ललित शर्मा व जार के प्रदेश अध्यक्ष नीरज गुप्ता के नेतत्व में प्रदेश के 50 से अधिक पत्रकार शामिल हुए। इस धरने में बीकानेर से जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ राजस्थान जार के प्रदेश उपाध्यक्ष  भवानी जोशी, संभाग सचिव नीरज जोशी, जिलाध्यक्ष श्याम मारू, आर.सी. सिरोही भी शामिल हुए। धरने के बाद पत्रकारों ने संसद की ओर मार्च किया तथा अपनी मांगों का ज्ञापन ज्ञापन राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, होम मिनिस्टर व सूचना व प्रसारण मंत्री को भेजा। धरने को संबोधित करते हुए एनयूजेआई के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष रासबिहारी ने इंटरनेशनल फैडरेशन आफ जर्नलिस्ट्स (बु्रसेल्स) के अंतराष्‍ट्रीय कार्यक्रम ‘‘यून डे टू एंड-ईम्पयून्टिी एगेस्ट जर्नलिस्ट्स‘‘ के लिए प्रतिबद्धता जताई। उन्होंने कहा कि आज पत्रकारों की हत्याओं, शोषण और छंटनी के खिलाफ आवाज बुलंद करने का समय आ गया है।

इसके लिये पत्रकारों की एकजुटता जरूरी है। रासविहारी ने पत्रकार सुरक्षा अधिनियम के गठन को अत्यंत आवश्यक बताते हुए कहा कि आज देश  भर में पत्रकारों की हत्या और जानलेवा हमलों की वारदाते बेतहाशा बढ़ती जा रही हैं। पत्रकारों में असुरक्षा का महौल व्याप्त है। धरने को एनयूजेआई के महासचिव रतन दीक्षित, कोषाध्यक्ष दधिबल यादव, दिल्ली जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन के महासचिव आनंद राणा, एनयूजे कार्यकारिणी के सदस्य मनोज मिश्र, प्रमोद मजूमदार, मनोहर सिंह, के अलावा वरिष्ठ पत्रकार राकेश आर्य, अशोक किंकर, संजीव सिन्हा, पवन भार्गव ने अपने विचार रखे।   उन्होंने कहा कि मीडिया काउंसिल और मीडिया कमीशन की मांग भी पुरजोर ढंग से उठाई जानी चाहिये।  डीजेए महासचिव आनंद राणा ने संसद के घेराव और ‘‘यून डे टू एंड-ईम्पयून्टिी एगेस्ट जर्नलिस्ट्स‘‘ कार्यक्रम को लेकर चलाए जा रहे राष्‍ट्रव्‍यापी सोशल मीडिया कंपैन की प्रगति की जानकारी दी।l

Mass Demonstration before Parliament, Impunity against Journalist,

Share this news

Post your comment