Tuesday, 17 October 2017

हाईकोर्ट मे दायर हुआ कोटगेट रेल्वे क्रासिंग मामला

विधि छात्र मुकुल कृष्ण व्यास और रामकिशोर देवड़ा ने दायर की याचिका

बीकानेर, विरासत शहर बीकानेर में यातायात और पर्यावरण प्रदूषण से सम्बंधित एक जनहित याचिका पी.आई.एल.) की सुनवाई करते हुए राजस्थान उच्च न्यायालय की खण्डपीठ द्वारा केन्द्र सरकार, डी.आर.एम. बीकानेर, नगर निगम बीकानेर, जिला कलक्टर बीकानेर और राजस्थान सरकार को जवाब देने के लिए नोटिस  जारी किया गया है। क्योंकि शहर के केन्द्र के मध्य से रेल्वे लाईन के कारण भारी यातायात समस्याहै।लोगों को यातायात की निकासी के लिए घण्टों खड़े रहकर इन्तजार करना पड़ता है। आमतौर पर इस रेल्वे लाईन से दिनभर में बीस से अधिक रेल गाड़ियां गुजरती है स्थिति संगीन और अधिक हो जाती है क्योंकि उक्त रेल्वे लाइ्रन शहर के सबसे व्यस्त और सबसे भीड़ भरे बाजार से होकर गुजरती है। जब रेल्वे फाटक बन्द होता है तब जाम लग जाता है ऐसी स्थिति शहर के लोग अपने को चिकित्सा सेवा से वंचित महसूस करते है क्योंकि के.ई.एम. रोड़ ही केवल एक मात्र रास्ता है जिले के प्रमुख अस्पताल पी.बी.एम. पहुंने का।
शहर के मध्य से गुजरने वाली रेल्वे लाईन से हो रही ध्वनि और वायु प्रदूषण और इस पर्यावरण प्रदूषण के निवारण के लिए व फड़ बाजार में अतिक्रमण हटाकर यातायात की व्यवस्था को सुचारू करने के लिए याचिकाकर्ता एन.एल.यू., जोधपुर के एलएल.बी. द्वितीय वर्ष के छात्र मुकुल कृष्ण व्यास और रामकिशोर देवड़ा ने न्यायालय के समक्ष अपनी दलीले रखी।
याचिकाकर्ता मुकुल कृष्ण व्यास की दलीले सुनने के बाद मुख्य न्यायाधीश अमिताव रॉय और न्यायाधीश विजय बिश्नोई की खण्डपीठ द्वारा भारत संघ जरिये महाप्रबन्धक, भारतीय रेल्वे, राजस्थान सरकार जरिए मुख्य सचिव, राजस्थान सरकार, डी.आर.एम. बीकानेर, नगर निगम बीकानेर जरिए चैयरमेन, नगर विकास न्यास जरिये सचिव, नगर विकास न्यास, जिला कलक्टर, बीकानेर को 26 फरवरी 2014 को जवाब देने के लिए नोटिस जारी किया गया है।
 

Bikaner Problems   Railway Line   Justic Amitabh Rai   Justic Vijay Bishnoi