Wednesday, 20 February 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  3390 view   Add Comment

पीडत मानव की सेवा भगवान की आराधना से भी अधिक फलदायी - बेनीवाल

चतुर्थ स्वर्गीय कसुम देवी डागा की स्मृति घुटना दर्द निवारण शिविर का उद्घाटन

बीकानेर, गृह राज्य एवं परिवहन मंत्री वीरेन्द्र बेनीवाल ने कहा कि पीडत मानव की सेवा भगवान की आराधना से भी अधिक फलदायी है। राज्य सरकार ने स्वास्थ्य सेवाओं को अव्वल बनाते हुए मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना शुरू कर आम जन के हितों के लिए बेमिसाल कार्य किया है।

ARvind Middha, Salim Bhait, Bhawani Shankr Sharma, Virendra Beniwal during Free Knee Pain Relief Campबेनीवाल रविवार को स्वर्गीय कसुम देवी डागा की स्मृति में नया शहर थाना के पीछे स्थित ब्रह्म बगीचा में आयोजित चतुर्थ घुटना दर्द निवारण शिविर के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य का कल्याणकारी कार्य सरकार एवं स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रयासों से सफल हो सकता है। उन्होंने कहा कि मुक्ति जैसी स्वयं सेवी संस्थाओं को विकासात्मक एवं कल्याणकारी कार्यों में स्वास्थ्य सेवाओं को प्राथमिकता से करते हुए बुजुर्गों की सेवा करनी चाहिए।

बेनीवाल ने कहा कि जरूरतमंद एवं पीडतों को चिकित्सों द्वारा जांच कर निःशुल्क नी बेल्ट उपलब्ध करवाने का अनूठे प्रयास से घुटनों का दर्द लोगों के कम होगा। उन्होंने स्वार्गीय डागा को सामाजिक क्षेत्रा की अग्रणी महिला बताते हुए प्रेरणा लेने का आह्वान किया।

महापौर भवानी शंकर शर्मा ने कहा कि वरिष्ठ नागरिक की युवाओं द्वारा सेवा करने की हमारी संस्कृति रही है। शर्मा ने कहा कि सेवा का कार्य स्थानीय आवश्यकताओं एवं जरूरतमंद की आवश्यकता के हिसाब से करने से उनका        अधिक लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि असहाय एवं पीडत व्यक्ति की सेवा प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य होना चाहिए। विशिष्ट अतिथि सलीम भाटी ने कहा कि सेवा का कार्य आपसी सामंजस्य व सहयोग की भावना से किया जाना चाहिए।

मुक्ति के अध्यक्ष हीरालाल हर्ष ने कहा कि अशिक्षा,गरीबी, बेकारी एवं बीमारी तक मुक्ति का यह उपक्रम चलता रहेगा। शिविर में 300 से अधिक लोगों का पंजीयन हुआ और चिकित्सक डॉ. विनय गर्ग एवं डॉ.आर.एल. चौधरी ने अपनी टीम के साथ घुटना पीडतों की जांचकर परामर्श दिया तथा संस्थाद्वारा निःशुल्क नीः बेल्ट वितरित किए गए।

कार्यक्रम में खूमराज पंवार, हजारी देवडा, खुशाल रंगा, आत्मा राम भाटी, ओमसोनी, घनश्याम लखाणी, चन्द्र शेखर जोशी, नमामी शंकर आचार्य, मनोज व्यास, राजेन्द्र आचार्य, अरविंद मिढ्ढा, मालेश जैन, रघुवीर सिंह भाटी सहित अनेक लोगों ने अपनी सेवाएं दी। विष्णु शर्मा, मनिंद जोशी ने समन्वय किया। राजेन्द्र जोशी ने संचालन किया।

Medical Camp, Brahm Bageecha, Virendra Beniwal, Bhawani Shankar Sharma,

Share this news

Post your comment