Monday, 23 October 2017

दीप प्रज्जवलित कर मनाया महाषिवरात्रि पर्व

आध्यात्मिक प्रवचन तथा सचेतन झांकियों का हुआ आयोजन

बीकानेर, सार्दुल गंज स्थित प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईष्वरीय विष्व विद्यालय के क्षेत्रीय केन्द्र में महाषिवरात्रि पर्व आध्यात्मिक उत्सव के रूप् में मनाया गया। उत्सव के दौरान आध्यात्मिक प्रवचन तथा सचेतन झांकियों का आयोजन हुआ। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईष्वरीय विष्व विद्यालय की क्षेत्रीय केन्द्र प्रभारी बी.के.कमल ने बताया कि केन्द्र की बहनों ने सुबह प्रवचनों में महा षिवरात्रि  का आध्यात्मिक महत्व’’ बताया गया।   प्रवचन में बी.के.मीना ने कहा कि षिव परमात्मा निराकार, ज्योति स्वरूप है।  षिव पिता परमात्मा ब्रह्मा, विष्णु एवं शंकर तीनों देवताओं के रचयिता हैं। षिव की यादगार लिंग (प्रतिमा) यादगार के रूप में दिखाते है।  उन्होंने कहा कि परमात्मा का स्व उद्घाटित नाम षिव है जिसका अर्थ है कल्याणकारी । वे सृष्टि की सभी आत्माओं  के परमपिता, परम षिक्षक एवं परम सतगुरु है। ज्योति स्वरूप होने केकारण उन्हें निराकार कहा जाता है। षाम को भगवान षिव, शंकर व बारह ज्योर्तिलिंग, परमात्मा षिव के विभिन्न नाम व रूप, शंकर पार्वती की सचेतन झांकिया निकाली गई। झांकियों में विभिन्न स्वरूप् बालक-बालिकाओं ने धारण किए।  झांकियों का आगाज जोधपुर विद्युत वितरण निगम के अधिषासी अभियंता बी.आर.के.रंजन सहित अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने दीप प्रज्जवलित कर किया। झांकियों तथा संग्रहालय परिसर में स्थाई रूप् से स्थापित आध्यात्मिक प्रदर्षनी का बड़ी संख्या में लोगों ने देखा। ब्रह्माकुमारी राधा व सुषीला ने आध्यात्मिक प्रदर्षनी के बारे में प्रवचन किए।