Friday, 19 July 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  3912 view   Add Comment

यहां होता है भगवान राम की जन्म कुण्डली का वाचन

कुण्डली का निर्माण पं. शिव रतन रंगा ने करीब सौ वर्ष पूर्व किया

बीकानेर, मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान राम का जन्मोत्सव जहां पूरे भारत में हर्षोल्लास एवं पूजा-अर्चना के साथ मनाया जाता है वही बीकानेर के तेलीवाडा चौक स्थित रघुनाथ मंदिर में एक शताब्दी से भगवान राम के जन्मकी कुण्डली के वाचन की परम्परा रही है। रामनवमी जन्मोत्सव के दौरान श्रद्धालुओं में भगवान राम की जन्म कुण्डली के वाचन एवं उसकों सुनने को लेकर गहरी आस्था है। श्रद्धालुओं का मानना है कि सूर्यवंशी भगवान श्रीराम के जन्म कुण्डली के ग्रहों, नक्षत्रों के शुभ लक्षणों को सुनकर उनके अनिष्ट की शांति होकर जीवन में सफलता एवं मंगलता की प्राप्ति होती है। भगवान राम की जन्म कुण्डली के वर्तमान वाचक पं. लक्ष्मीनारायण रंगा के अनुसार इस कुण्डली का निर्माण पं. शिव रतन रंगा ने करीब सौ वर्ष पूर्व किया था। उन्होने अपने जीवन काल मे 70 वर्षो तक रामनवमी के दिन भगवान राम की जन्म कुण्डली का वाचन किया। अनके बाद से पं. लक्ष्मी नारायण रंगा सन् 1981 से लगातार इस कुण्डली का वाचन कर रहे है। पं. लक्ष्मी नारायण रंगा के अनुसार रामनवमी के अवसर पर राम भक्त हनुमान के गुरू के समक्ष परम्परानुसार भगवान राम की कुण्डली का पूजन कर उसका वाचन किया जाता हैं। इस दौरान बडी संख्या मे श्रद्धालु इस कस कुण्डली को श्रद्धापूर्वक सुनते है। पं. रंगा के अनुसार भगवान राम की जन्म कुण्डली के ग्रहो व योग को सुनने से शारीरिक, मानसिक कष्ट दूर होते है। जीवन से आत्मविश्वास मे वृद्धि होती है। श्रद्धालु नवरतन किराडू के अनुसार जहां तक जानकारी है रामनवमी के अनुसार भगवान राम की जन्म कुण्डली वाचन की परमपरा कही नही है। पिछले 40 वर्षो से इसका श्रवण कर रहा ह। हर बार मन मे शांति, कार्य मे एकाग्रता व जीवन सफलता मिल रही है। रघुनाथ मंदिर तेलीवाडा चौक मे रविवार को भी रामनवमी के अवसर पर श्रीराम की जन्म कुण्डली का वाचन कर भगवान राम के जन्म की खुशियां मनाई गई। परम्परानुसार पंचामृत प्रसाद का वितरण श्रद्धालुओं मे किया गया।

Lord Rama, Lord Rama Horoscope,

Share this news

Post your comment