Saturday, 25 May 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  1002 view   Add Comment

२४ घण्टे अखण्ड संकीर्तन समारोह में उमडे श्रद्धालु

भजन-कीर्तन और यज्ञ के आयोजन हुए

बांसवाडा, २० अगस्त/ जानी-मानी अध्यात्म विभूति पं. निर्भयराम जोशी की चतुर्थ पुण्य तिथि पर यहां महालक्ष्मी चौक क्षेत्र में श्री राधावल्लभ मण्डल के तत्वावधान में आयोजित दो दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान समारोह सोमवार रात औदीच्यवाडा धर्मशाला में महाप्रसादम के साथ सम्पन्न हो गया।
 दो दिवसीय समारोह के अन्तर्गत सोमवार को दूसरे दिन शाम तक ’’श्रीकृष्णगोविन्द हरे मुरारे, हे नाथ नारायण वासुदेव‘‘ मंत्र का अखण्ड जप चला। इसमें श्रद्धालु नर-नारियों ने पूरे भक्तिभाव के साथ भाग लिया और अखण्ड संकीर्तन किया।
 इस अवसर पर श्रीकृष्ण यज्ञ हुआ। इसमें प्रसिद्ध कर्मकाण्डविद् पं. इच्छाशंकर जोशी के आचार्यत्व में श्रीकृष्ण राधा मंत्र जाप की दशांश आहुतियां दी गई। पूर्णाहुति पं. मधुसूदन जोशी (मनी भाई) ने दी एवं आरती की।
 समारोह के अन्तर्गत जप समाप्ति के उपरान्त श्रद्धालुओं ने लोक वाद्यों की स्वर लहरियों पर भजन-कीर्तन प्रस्तुत कर माहौल में प्रेमाभक्ति रस का ज्वार उमडा दिया।
 इस दौरान श्री राधावल्लभ मण्डल के अध्यक्ष मनोहर जोशी, आध्यात्मिक संगीत विभूति पं. देवकीनंदन जोशी, छबीलाल जोशी, दमन भाई नागर सहित कई मशहूर संगीतज्ञों और भजन-कीर्तन विशेषज्ञों ने अखण्ड संकीर्तन के साथ ही भजनों की माधुर्य भरी गंगा बहायी।
 समारोह में जोशी परिवार के तमाम सदस्यों और पं. निर्भयराम जोशी के सहयोगियों के साथ ही प्रदोष मण्डल, निर्भयराम हनुमान कथा मण्डल, औदीच्य युवा परिषद सहित विभिन्न समाजों और संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।
 श्रद्धांजलि अर्पित
 समारोह के अन्तर्गत अध्यात्म विभूति पं. निर्भयराम जोशी के चित्र पर पुष्पान्जलि अर्पित की गई और भावभीनी श्रद्धान्जलि दी गई। इस अवसर पर पं. जोशी द्वारा वागड अंचल में अध्यात्म गंगा प्रवाह के लिए किए गए प्रयासों तथा इससे बने आध्यात्मिक माहौल पर चर्चा की गई और कहा गया कि धर्म-अध्यात्म जगत में उनकी कमी सदैव खलती रहेगी।

Share this news

Post your comment