Friday, 13 December 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  4953 view   Add Comment

त्रिदिवसीय भैरव महोत्सव में श्रद्धालुओं का तांता, महौल भैरवमय

बीकानेर के सूरदासाणी बगेची स्थित नवग्रह युक्त सियाणा भैरव की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के आज तीसरे दिन पूरा महौल भक्तिमय नजर आ रहा है। यहाँ पर बीकानेर के आस पास के गाँवों व शहर भर के लोगों का दर्शनार्थ तांता लगा हुआ है। आज सुबह से ही एक सौ इक्यावन ब्राह्मणों ने पंडित राजेन्द्र किराडू के सानिध्य में संगीतमय भैरव पाठ का गान प्रारम्भ कर दिया है। इस पाठ में शहर काँग्रेस अध्यक्ष जनार्दन कल्ला, तांत्रिक व गायत्री उपासक जुगलकिशोर ओझा पूजारी बाबा, अंतर्राष्ट्रीय पहलवान नृसिंहलाल किराडू सहित समाज के कईं गणमान्य व विशिष्ट व्यक्तियों ने भाग लिया।
पिछले दो दिन से चल रहे इस कार्यक्रम के कारण बीकानेर के शहरी भाग का सारा महौल भैरवमय हो रखा है, जिधर देखो उधर भैरव भक्त ही भैरव भक्त नजर आ रहे हैं। लाल कमीज व लाल ही अंगोछा पहने इन पंडितों ने पूरा महौल भैरवमय कर दिया है।
सूरदासाणी बगेची में गणेश, नवग्रह, षोड्श मातृका, कोडाणा भैरव,  वीर हनुमान सहित स्थान देवता की पूजा के साथ संगीतमय भैरव पाठ चालू होता है जो दिनभर जारी रहता है और करीब चालीस हजार पाठ दिनभर में किए जाते हैं। त्रिदिवसीय कार्यक्रमों के अंतर्गत भैरव पुरश्चरण पाठात्मक पाठ का शुभारम्भ रविवार से हुआ जिसकी पूर्णाहूति मंगलवार को दशांश एक कुण्डीय महायज्ञ में आहूतियों के साथ होगी। इस दौरान तीन घण्टे तक लगातार देशी घी की आहूति दी जाएगी। तीनों दिन तक भगवान सियाणा भैरव की मूर्ति का अलग अलग तरीके से अभिषेक किया गया । पंचामृत अभिषेक के बाद आज तीसरे दिन अष्टगंध अभिषेक एवं एक कुण्डीय महायज्ञ व छपन्न भोग का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में स्वयं लाल बाबा मंत्रोचार भैरव पाठात्मक पाठ में पंडितों के बीच लाखों जप में शामिल रहते हैं। प्रतिदिन एक सौ पिचहत्तर पंडित तीन सौ पाठ यानि बावन हजार पाठ मंत्रोचार द्वारा कर रहे हैं। आयोजन के दूसरे दिन भैरव उपासक मनमोहन किराडू ने राष्ट्रीय संत लाल बाबाजी का तिलक लगाकर, मह मीठाकर व शॉल ओढाकर सम्मान किया।
यहाँ दर्शकों की बडी संख्या में भीड उमड रही है। कार्यक्रम के प्रवक्ता भूरसा जोशी ने बताय कि तीसरे दिन आज नवग्रह युक्त भैरव प्रतिमा का स्वर्ण से श्रृंगार हो्रगा व शाम को सात बजे महाआरती का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम में भूरसा जोशी, सुरजा महाराज, मोहन लाली, दुर्गादास किराडू, सागरमल जोशी, रतना महाराज, दाउ रंगा, सत्यनारायण किराडू, राजा जोशी सहित कईं लोग दिनरात लगे हुए हैं।

Share this news

Post your comment