Thursday, 19 October 2017

गणगौर मेले में नारी शक्ति का हुआ अभिनव संगम

गणगौर ऐ तु आछी आ..... की मंगलकामना के साथ दी विदा

चूरू 02 अप्रैल। पेड़-पौधों पर फूटती हरि कच्छी पत्तियां, मिंजर व फूल से बने लावण्यी मौसम में महकते मरुधरा के थळी अंचल में एक पखवाड़े तक चला गणगौर पूजन बुधवार को संपन्न हुआ।

प्रभातकालीन बेला में सुहागिन महिलाओं, नियमित पूजा करने वाली नवविवाहिताओं व कन्याओं ने मांगलिक गीतों के साथ गणगौर, ईशर, फूला, कानाजी आदि की पूजा-अर्चना की तथा प्राकृतिक की आराधना में गीत गाकर प्रकृति को रिझाया। गणगौर पर्व पर सुबह से ही घरो में चहल-पहल शुरू हो गई। जिनके घरों में गणगौर की प्रतिष्ठापना की हुई थी वहां पूजन का दौर लम्बा चला। गोर-ए गणगौर माता खोल किवाड़ी.... के गीत के शुरू हुए पूजन में महिलाओं ने सामूहिक गीत गाए तो प्रकृति झूम उठी। म्हारा हरा-ए ज्वाहरा-ए ... और एळ-खेळ नदी बहवे ओ पाणी किथ जासी राज जैसे गीतों के साथ बधावा गीतों के माध्यम से नारी शक्ति ने घर-परिवार व समाज के पवित्र रिश्ते बनाए रखने का अभिनव संदेश दिया। सुहागण बहनो पूजल्यों-ए गणगौर के आह्वान के साथ ईशर तो बांधे पेचों गोरा बाई पेज संवरो है राज..... घोड़लियों जैसे गीतों के बीच में खीपोळी म्हारी खींपा छाई तारा छाई रात.... आदि गीतों के माध्यम से नारी शक्ति पर्यावरण के महत्व को प्रतिपादित किया। फूल, दूब, ज्वाहरा, फल, रोली आदि पूजन सामग्री से पूजन कर महिलाओं ने गणगौर माता के ढोकळा, खीर का भोग लगाया और उनसे घर-परिवार के लिए सुख-समृद्धि की कामना की।

सब्जी मण्डी में भरा मेलानिकली गणगौर की सवारीजिला मुख्यालय पर बड़ा मंदिर, सुराणा, लखोटिया, सोनी व कोठारी के पिरवारों में गणगौर को संवारा गया तथा उनकी पण्डितों ने पूजा-अर्चना करवाई सवारी में शामिल होने वाली सुन्दर परिधानों व गहनों से सजी गणगौर की दोपहर तक पूजा-अर्चना की गई तथा बाद में दर्शनार्थ सार्वजनिक स्थलों पर उन्हें विराजमान किया। अपने-अपने स्थानों से सवारी के लिए प्रस्थान कर गणगौर का शाम को प्राचीन गढ के पास संगम हुआ। गढ से मेले के लिए रवाना हुई गणगौर की सवारी का दर्शन करती महिलाओं ने उन्हें प्रणाम किया। गाजे-बाजे के साथ निकली गणगौर की सवारी मेला स्थल सब्जी मण्डी पहुंची जहां पर नारी शक्ति ने ज्वहारा से उनकी पूजा-अर्चना की और फिर आने के कामना के साथ उनको विदा किया।

इसी क्रम में घरों में पूजी जाने वाली गणगौर का नवविवाहिताओं व कन्याओं ने सब्जी मण्डी स्थित पावटा कूए में गौर-ए तु आछी आ..... की मंगलभावनाओं के साथ विसर्जित किया। मेला स्थल पर गणगौर चौक मेला समिति के कार्यकर्ताओं ने व्यवस्था को संभाला तो पुलिस प्रशासन की ओर से व्यापक सुरक्षा व्यवस्था की गई। --- चूरू से जितेश सोनी

Chru Gangaur Fair