Monday, 12 April 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News
  2178 view   Add Comment

एपीएस मे भामाशाह व आधार कार्ड शिविर 1 अगस्त से

रोटरी क्लब बीकानेर मरूधरा की ओर से दो दिवसीय भामाशाह व आधार कार्ड शिविर का आयोजन

रोटरी क्लब बीकानेर मरूधरा की ओर से दो दिवसीय भामाशाह व आधार कार्ड शिविर का आयोजन 
 
 
बीकानेर, आर्यन पब्लिक स्कूल मे रोटरी क्लब बीकानेर मरूधरा की ओर से दो दिवसीय भामाशाह व आधार कार्ड शिविर का आयोजन किया जायेगा।
शिविर संयोजक रोटेरियन अमित व्यास ने बताया कि इस अवसर पर  रोटरी क्लब ने आमजन के सुविधार्थ कोठारी अस्पताल के पास, लक्ष्मी हेरीटेज के पीछे स्थापित आर्यन पब्लिक स्कूल मे शनिवार व रविवार 1 व 2 अगस्त  को भामाशाह व आधार कार्ड बनवाने हेतु सुबह 10 बजे से सायं 5 बजे तक दो दिवसीय विशेष शिविर आयोजित किया जा रहा है।
क्लब अध्यक्ष डाॅ अम्बुज गुप्ता ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया कि राजस्थान सरकार और केन्द्र सरकार के इन जरूरी दस्तावेजों को समय पर बनाने हेतु इस शिविर आयोजन किया जा रहा है।  शिविर मे कार्ड बनवाने वालों के लिए पेन कार्ड, वोटर कार्ड, लाइसेंस, बैंक पास बुक व अन्य तरह के मान्य आईडी व पासपोर्ट फोटो साथ लाने की आवश्कता होगी।
क्लब सचिव आनन्द आचार्य ने बताया कि रोटेरियन गोविन्द कल्याणी, मनीष कालरा, पुनीत हर्ष, रूपिन कल्याणी, राजेश बावेजा, जयदयाल राठी, पवन पारीक, शरद कालरा, श्रवण सैनी ने  सोशियल मीडिया और पेम्फलेट वितरण के माध्यम से आमजन को इस शिविर का लाभ उठाने के लिए जागरूक कर रहे है।

क्या है भामाशाह योजना, क्यों बनवाऐं भामाशाह कार्ड
भामाशाह योजना का उद्देश्य सभी राजकीय योजनाओं के नगद एवं गैर नगद लाभ को प्रत्येक लाभार्थी को सीधा पारदर्शी रुप से पहुँचाना है। 
यह योजना राशन कार्ड, पेन्शन, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति, जैसे लाभार्थियों को भी सम्मिलित करेगी। यह योजना परिवार को आधार मानकर उनके वित्तीय समावेश के लक्ष्य को पूरा करती है, जहाँ हर परिवार को श्भामाशाह कार्डश् दिया जाएगा जो उनके बैंक खातों से जुड़े होंगे। यह बैंक खाता परिवार की मुखिया, जो कि महिला होगी, के नाम से होगा और वह ही इस खाते की राशि को परिवार के उचित उपयोग में कर सकेगी। यह कार्ड बायो-मैट्रिक पहचान सहित कोर बैंकिंग को सुनिश्चित करता है। 
इसके अन्तर्गत, प्रत्येक परिवार का सत्यापन किया जाएगा और पूरे राज्य का एक समग्र डेटाबेस बनाया जाएगा। इसके माध्यम से ड्यूप्लिकेशन को भी जाँचा व दूर किया जा सकेगा। सभी जनसांख्यिकी और सामाजिक मापदण्डों को विभिन्न विभागों द्वारा पात्रता के लिए इसमें सम्मिलित किया जाएगा।
 

Tag

Share this news

Post your comment