Monday, 30 November 2020

KhabarExpress.com : Local To Global News
  1758 view   Add Comment

ओएफडी मुक्त ग्राम पंचायत बनाने का संकल्प

श्रीडूंगरगढ़ पंचायत समिति जिले की पहली ओ.डी.एफ. पंचायत समिति होगी और इसके लिए आज से ही सभी पंचायतों में युद्व स्तर पर कार्य प्रारम्भ कर दिया जाएगा

बीकानेर । श्रीडूंगरगढ़ पंचायत समिति  जिले की पहली ओ.डी.एफ. पंचायत समिति होगी और इसके लिए आज से ही सभी पंचायतों में युद्व स्तर पर कार्य प्रारम्भ कर दिया जाएगा। श्रीडूंगरगढ़ के विधायक मंगलाराम गादारा ने शनिवार को पंचायत समिति सभागार में निर्मल भारत अभियान के संबंध में आयोजित संरपचों, ग्राम सेवकों एवं ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों की बैठक में यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि खुले में शौच की प्रवृति विद्यमान होने से ग्रामीण क्षेत्रों में बीमारियों का प्रतिशत बहुत अधिक बढ़ा है । इसलिए हमें अवलिम्ब खुले में शौच करना बंद करना है और प्रत्येक घर में व्यक्तिगत शौचालय बनाकर इसका उपयोग सुनिश्चित करना है। उन्होंने  सभी उपस्थित जनप्रतिनिधियों एवं लोक सेवकों से आग्रह किया कि जीवन की सभी प्राथमिकताओं को दुसरे स्थान पर रखते हुए शौचालय निर्माण एवं खुले में शौच करने की प्रवृति को बंद करने को प्रथम स्थान पर रखें। उन्होंने यह भी कहा कि श्रीडूंगरगढ़ के लोग अग्रणी सोच रखते है और कार्य करने में विश्वास करते है इसलिए इसमें कोई सन्देह नहीं कि आने वाले समय में श्रीडूंगरगढ़ बीकानेर जिले की पहली ओडीएफ पंचायत समिति होगी।जिला कलक्टर आरती डोगरा ने कहा कि जिले में चार ग्राम पंचायतें अपने आप को ओडीएफ घोषित कर चुकी है लेकिन श्रीडूंगरगढ़ में अभी तक एक भी ग्राम पंचायत खुले में शौच मुक्त नहीं हुई है। उन्होंने  ने कहा कि श्रीडूंगरगढ़ में अन्य क्षेत्रों में बहुत अच्छा कार्य हुआ है और उम्मीद है कि खुले में शौच से मुक्ति के क्षेत्र में भी यह इलाका नए आयाम स्थापित करेगा। उन्होंने  ने उपस्थित सरंपचों, प्रेरकों, ग्राम सेवकों एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं  को कहा कि प्रत्येक घर को ओडीएफ बनाना उनकी जिम्मेदारी होनी चाहिए क्योंकि खुले में होने वाले शौच से हो रहे नुकसान की जानकारी आम आदमी तक ये लोग ही पहुंचा सकते है। उन्होंने  ने उपस्थित सभी लोगों को खुले में शौच को आन बान और शान के साथ जोड़ते हुए कहा कि इस वजह से अनेक स्थानों पर हमारी बहु-बेटियों की बेइज्जती होती है। राजस्थान में महिलाओं की इज्जत के प्रति लोगों की भावना की सराहना करते हुए उन्होंने इसकी सुरक्षा करने का आवहान किया।उपखण्ड अधिकारी मदनलाल सिहाग ने कहा कि श्रीडूंगरगढ़ पंचायत समिति क्षेत्र में दस ग्राम पंचायतें निर्मल ग्राम पुरस्कार प्राप्त कर चुकी है। ऐसे में उनका ओडीएफ न होना अनुचित है। उन्होंने ने जिला कलक्टर को विश्वास दिलाया कि आने वाले समय में बहुत जल्द यहां की  अनेक पंचायतें ओडीएफ होगी। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. देवेन्द्र चौधरी ने कहा कि खुले में पड़ा मानव मल प्रत्येक सजीव के लिए गंभीरतम खतरा है। इसकी तुरन्त रोकथाम होनी चाहिए। जिला समन्वयक महेन्द्र सिंह शेखावत ने बैठक का संचालन करते हुए निर्मल भारत अभियान कि विस्तारपूर्वक जानकारी दी।  बैठक में विभिन्न संरपचों ने अपनी ग्राम पंचायतों को ओडीएफ बनाने कि तारीखें विधायक एवं जिला कलक्टर कि मौजुदगी में घोषित की ,जिनमें रीडी एवं तोलियासर को दस मई , उपनी को पन्द्रह मई, उदरासर को बारह मई, सुडसर एवं दुलचासर को सत्रह मई, लखासर, बाडेला, ठुकरियासर, जोधासर एवं मोमासर को बीस मई, शेरूणा को तीस मई, आडसर को पांच जून, गुंसाईसर को बीस जून को ओडीएफ बनाने की घोषणा की  गई। इसके अतिरि?त पुनरासर पच्चीस मई, बरंजागसर चौदह मई, धर्मास पच्चीस मई तथा सुरजनसर को तीस मई तक ओडीएफ बनाने की घोषणा कि गई।  कार्यक्रम में तहसीलदार सुमन चौधरी, विकास अधिकारी मोहन सिंह गोदारा, ?लॉक समन्वयक कविता जैन, प्रेरक तोलाराम, सहायक अभियन्ता धीरसिंह गोदारा सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

Tag

Share this news

Post your comment