Saturday, 16 October 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News
  4236 view   Add Comment

सामूहिक यज्ञोपवित संस्कार की तैयारियां पूर्ण

संस्कार चेतना यात्रा का होगा आयोजन

बीकानेर, स्वामी श्री करपात्री धर्मसंघ संस्कृत महाविद्यालय राम लक्ष्मण भजनाश्रम देवीकुण्ड सागर बीकानेर के तत्वाधान में आगामी चार जून को आयोजित किए जाने सामूहिक यज्ञोपवित संस्कार की अंतिम तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। आयोजन समिति के प्रमुख कमल कल्ला ने बताया कि आज आयोजन से जुड़ी हुई विभिन्न समितियों की बैठक का आयोेजन कर समस्त कार्यवाही को अंतिम रूप दिया गया।  संस्कार चेतना यात्रा समिति के बालकिसन व्यास  ने बताया कि तीन जून को नत्थूसर गेट के बाहर स्थित महात्मा लाली माई वेद पाठशाला से संस्कार  चेतना यात्रा का आयोजन किया जाएगा जिसमें स्वयं सर्वेश्वर जी महाराज शिरकत करेंगे। इस संस्कार चेतना यात्रा में समस्त बटुक अपने परिवारजनों के साथ एवं बीकानेर शहर के गणमान्य नागरिक हिस्सा लेंगे।
Ygyopavit Sanskar
संस्कार चेतना यात्रा समिति के शिवकुमार आचार्य ने बताया कि यह संस्कार चेतना यात्रा लाली माई पार्क वेद पाठशाला से रवाना होकर शहर के विभिन्न मार्गों से होती हुई दम्माणी चैक स्थित गोपाल जी के मंदिर पर जाकर समाप्त होगी।  संस्कार चेतना यात्रा के ओम जी बोहरा ने बताया कि इस यात्रा में सचेतन झांकियां होगी एवं शंख ध्वनी करते हुए ब्राह्मण भी होंगे और इस यात्रा का शहर के विभिन्न मौहल्लों में स्वागत किया जाएगा। 
पाण्डाल व्यवस्था समिति के मनोज व्यास ने बताया कि देवीकुण्ड सागर स्थित राम लक्ष्मण भजनाश्रम में विशाल पाण्डाल लगाया जाएगा जिसमें हजारों लोगों के बैठने और प्रसाद ग्रहण करने की व्यवस्था होगी। पाण्डाल व्यवस्था के शिवकुमार पुरोहित ने बताया कि गर्मी को देखते हुए पाण्डाल की विशेष व्यवस्था की गई है। इसी तरह प्रसाद समिति की बैठक कर प्रसाद ग्रहण करने की व्यवस्था और प्रसाद बनाने की व्यवस्था को अंतिम रूप दिया गया ।समिति के हनुमान पुरोहित ने बताया कि इस दिन आने वाले समस्त श्रद्धालुओं के प्रसाद ग्रहण करने की व्यवस्था की गई है । 
संस्कार समिति के प्रमुख मांगीलाल जी भोजक ने बताया कि चार जून को सुबह छः बजे बटुको के यज्ञोपवित संस्कार का आयोजन होगा और एक दिन पहले तीन जून को नांदी श्राद्ध व प्रायश्रिचत कर्म का आयोजन होगा जिसमें बटुकों के अभिभावक हिस्सा लेंगे। संस्कार समिति के श्याम जी व्यास ने बताया कि बटुकों को यज्ञोपवित ग्रहण करने से पहले और बाद में आचार्य द्वारा वेद ज्ञान करवाया जाएगा और जीवन जीने के बारे में विशेष बातों के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाएगी। 

Tag

Share this news

Post your comment