Saturday, 20 April 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  3501 view   Add Comment

सियाचिन में हुए शहीदों की याद में सांस्कृतिक संध्या का आयोजन

सियाचिन में हाल ही में हुए शहीदों की याद में श्रधान्जली

सियाचिन में हुए शहीदों की याद में सांस्कृतिक संध्या का आयोजन

बीकानेर, सेव पब्लिक पार्क अभियान के तहत रविवार को सियाचिन में हाल ही में हुए शहीदों की याद में व उन्हें श्रधान्जली देने लिए देशभक्ति सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया ।
कार्यक्रम के संयोजक अतुल आचार्य ने बताया कि सियाचिन में -45 डिग्री पर भारत माँ के पुत्रो ने देश की रक्षा करते हुए हँसते-हँसते अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया, उन वीर सपूतो को श्रद्धाजंली देने एवं उनकी याद में रविवार शाम 6 बजे देशभक्ति प्रोग्राम ग्रीन एन क्लीन बीकानेर सोसाइटी के तत्वाधान में सेव बीकानेर पब्लिक पार्क अभियान के तहत न्यू अपोलो हॉस्पिटल व  के सहयोग से पब्लिक पार्क, बीकानेर के अगर्टन पार्क हिस्से में आयोजित हुआ जिसमे भारत माता के वीर शहीदों को श्रधान्जली देने के युवाओ को देशभक्ति व पर्यावरण संरक्षण का सन्देश भी दिया गया ।

कार्यक्रम में माँ भारती के शहीद सपूतों को श्रद्धाजंलि देने हेतु बीकानेर के देशभक्त अपने शहर के इस कार्यक्रम में पधारे तथा उनके सर्वोच्च बलिदान को याद करते हुए मौन रखकर उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना की । कार्यक्रम की अध्यक्षता कर्नल हेम सिंह जी ने की कई स्कूलों के बच्चों ने भी भाग लिया तथा कई युवा व बाल संगीत कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियां दी । इस मौके पर कई नन्हे-मुन्ने बच्चों ने सांस्कृतिक गतिविधियों के द्वारा अपने देशभक्ति के भावों को व्यक्त किया । कार्यक्रम में आरटीआई कार्यकर्ता गोवर्धन सिंह ने भी देश भक्ति पर अपने विचार प्रकट किये व सभी को अपने अपने तरीके से देश भक्ति करने के लिए प्रेरित किया । बाल गायिका सुश्री कुमकुम व सुश्री संजना ने तथा तानसेन म्यूजिक क्लासेस की ओर से संस्थान के छात्र छात्राओं ने अपनी देशभक्ति गायन व नृत्य प्रस्तुतियां दी ।

कार्यक्रम का सञ्चालन शरद राजपुरोहित ने किया । कार्यक्रम में सहयोग करने वालों में अतुल आचार्य, शुभम राजपुरोहित, भानुप्रताप, नरेंद्र, अश्विनी, अक्षय सोनी, रुपेश, आशीष, सौरभ गहलोत, आर्यन, गरिमा मेघना, गौरव राजपुरोहित, लक्ष्मण मोदी, आदित्य, रूद्र प्रताप, समर्थ, अभिनव और अन्य शामिल थे ।

Share this news

Post your comment