Wednesday, 16 October 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  2940 view   Add Comment

बैंड कंपनी बन गया फ्रांस का पियर

पियर ने बताय गीत तो यू-ट्यूब में भी

बीकानेर। 21 वर्ष की उम्र, संगीत सीखने का जुनून साथ में पढ़ाई का दबाव। परिवार ने साथ दिया तो सब मुमकिन हो गया और फ्रांस का पियर 21 वर्ष की उम्र में ही सात वाघ यंत्र बजाने में निपुण हो गया। इतना ही नहीं तीन वाघ यंत्र तो वह एक साथ बजाता है
और उनमें तालमेल इतना कि सुनने वालों को लगता है तीन एक्सपर्ट एक साथ बजा रहे है। इतनी छोटी उम्र में क्लासिकल संगीत में इतनी महारथ भले ही थोडा अटपटा लगे लेकिन अपने जुनून के चलते पियर ये यह संभव कर दिया है। इंजीनयिरिंग का छात्र पियर इन दिनों दिल्ली में इंटर शिपक र रहा है। बीकानेर में तीन दिन के लिए कैमल सफारी करनें आया पियर फे्रंच भाषा पर आधारित उसके संगीत के बोल भले ही समझ में नहीं आए हों लेकिन उसका संगीत काफी कर्णप्रिय था। पियर ने बताया कि फ्रांस में उसकी छह लोगों की टीम है। शौकिया तौर पर वे कई समारोह में शिकायत कर अपना संगीत सुनाते हैं। अभी तक पढ़ाई करने के कारण उन्होंने संगीत को व्यवसाय से नहीं जोड़ा है। अब उसकी टीम ने कई एलबम तैयार किए है। कुछ गीत तो यू-ट्यूब में भी है। पियर ने बताय
कि उसके गाने वाले मित्र अलग है वह केवल संगीत कंपोज करता है। जब उसने अपना हुनर प्रदर्शन शुरू किया तो धीरे-धीरे आस-पास लोग भी उसके संगीत में खो गए। गिटार, माउथ आरगन व मंजीरे को एक साथ बजाकर जैसे ही पियर ने तान छेड़ी तो पास ही बैठे विनोद भोजक ने ढोलक बजाकर इसकी कमी भी पूरी कर दी। पियर ने कि छह वर्ष की उम्र में उन्होंने गिटार बजाना सीख लिया था। धीरे-धीरे माउथ आर्गन मंजीरे आदि बजाने सीख लिए। इसके बाद उन्होंने इन तीनों को एक साथ बजाना सीखा। एक सवाल के जवाब में पियर ने कहा कि उन्हें हिन्दी भाषा काफी अच्छी लगती है, लेकिन अभी तक हिन्दी उन्हें आती नहीं है। जब वे हिन्दी सीखेंगे तो हिन्दी में भी संगीत कंपोज करेंगे।
 

Pier,

Share this news

Post your comment