Thursday, 19 October 2017

प्रदेश में उच्च वोल्टेज के 800 ग्रिड सब स्टेशन बनेंगे- डॉ. जितेंद्र सिंह

ऊर्जा मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि सौर ऊर्जा की अपार संभावनाओं को देखते हुए प्रदेश सौर ऊर्जा का हब बनेगा और इसे केवल रेत के धोरों के लिए ही नहीं सिलिकॉन वैली के रूप में जाना जाएगा। इससे बडी संख्या में निवेशक भी आकर्षित होंगे।डॉ. सिंह गुरुवार तडके विधानसभा में अकाल, पानी और बिजली पर चल रही चर्चा पर जवाब दे रहे थे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन की प्रचुर संभावनाएं हैं। अकेले जैसलमेर में100  किमी की परिधि में सौर ऊर्जा के माध्यम से एक लाख मेगावाट बिजली उत्पादन का आकलन किया गया है और इससे पूरे देश में बिजली आपूर्ति हो सकती है।उन्होंने बताया कि प्रदेश में सौर ऊर्जा से 8 हजार मेगावाट बिजली उत्पादन के लिए 220  लोगों ने बुकिंग कराई है। डॉ. सिंह ने कहा कि भविष्य में पानी और कोयले के संकट को देखते हुए सौर ऊर्जा उत्पादन के प्रोजेक्ट बेहतर साबित होंगे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में आरएपीपी न्यूक्लियर रियेक्टर भी शुरू कर दिया गया है।ऊर्जा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में सुपर क्रिटिकल तापघर की छह इकाइयां लाई जा रही हैं। 660  मेगावाट की ये इकाइयां सूरतगढ, छबडा और बांसवाडा में स्थापित की जा रही हैं। इसके अलावा 12वीं पंचवर्षीय योजना के लिए भी  660  मेगावाट की छह और इकाइयों का निर्माण प्रस्तावित है। ये इकाइयां  सूरतगढ, कालीसिंध और बांसवाडा में स्थापित होंगी।डॉ. सिंह ने कहा कि प्रदेश में 2013 में बिजली में मांग और उत्पादन का अंतर समाप्त हो जाएगा और राज्य बिजली के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होने के साथ ही बिजली उत्पादन में देश का अग्रणी राज्य हो जाएगा। उन्होंने बताया कि बिजली के क्षेत्र में प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने की दृष्टि से ही इस बार बजट में बिजली के लिए सबसे अधिक राशि 12 हजार 500 करोड रुपए का प्रावधान किया गया है।उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोगों को उच्च वोल्टेज की बिजली उपलब्ध करवाने के लिए 2 हजार करोड रुपए की लागत से 800 ग्रिड सब स्टेशन बनाए जाएंगे इनमें से 163 ग्रिड सब स्टेशन बन चुके हैं  उन्होंने बताया कि तूफान और अंधड से बिजली के खंभे नहीं गिरें, इसके लिए गुजरात पैटर्न के खंभे लगाने पर विचार किया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अन्य राज्यों की तुलना में कम दरों पर बिजली उपलब्ध करवाई जा रही है।

 

Dr. Jitendra Singh   State high voltage