Wednesday, 24 April 2019
khabarexpress:Local to Global NEWS
  2181 view   Add Comment

भारतीय रेल की समूचे ब्राडगेज नेटवर्क पर टक्कररोधी यंत्र लगाने की योजना

भारतीय रेल २०१३-१४ तक अपने पूरे ब्राडगेज नेटवर्क पर लगभग ५७,००० टक्कररोधी यंत्र लगाने की योजना बनाई है । मैसर्स कोंकण रेलवे कारपोरेशन लिमिटेड मैसर्स कर्नेक्स माइकोसिस्टम (इडिया) लिमिटेड के सहयोग से पिछले तीन वर्षों के दौरान लगभग २,३००० यंत्रों की आपूर्ति कर चुका है।
नार्थईस्ट फ्रंटियर रेलवे के कटिहार न्यू जलपाईगुडी गुवाहाटी तिनसुकिया डिब्रूगढ लेडो खंड पर यह यंत्र लगाए जा चुके हैं और इन्होंने काम करना शुरू कर दिया है । इन प्रणाली का अन्य १०,००० मार्ग किलोमीटर रूट पर विस्तार के लिए सर्वेक्षण का कार्य पूरा कर लिया गया है। इन यंत्रों के लगाये जाने पर ट्रेनों की परस्पर भिडंत से होने वाली दुर्घटना रोकने में काफी मदद मिलेगी । इससे स्टेशनयार्डों में भी होने वाली दुर्घटनाओं को भी टाला जा सकेगा। इन टक्कररोधी यंत्रों को सिग्नल प्रणाली और इंटरलोंकिग प्रणाली से जाना जाता है और टक्कर के हालात बनने पर यह यंत्र तत्काल कार्य करने लगते हैं।
यातायात में अंधाधुंध बढोतरी के बावजूद रेल दुर्घटनाओं में काफी कमी आई है । वर्ष २०००-०१  में ४६४ रेल दुर्घटनाएं हुईं, जो वर्ष २००५-०६ में ५० प्रतिशत घट कर २३४ रह गई। २००६-०७ में १९५ रेल दुर्घटनाएं हुई । सुरक्षा भारतीय रेल का लक्ष्य है और इस लक्ष्य को पूरा करने व यात्रियों की सुरक्षा के लिए भारतीय रेल सभी आवयिक कदम उठा रही है ।

Share this news

Post your comment