Tuesday, 12 December 2017

मजदूरों की समस्याओं पर होगी चर्चा

अखिल भारतीय खनिज धातु मजदूर महासंघ का 10 वां त्रैवार्षिक अधिवेशन 4 व 5 को

बीकानेर। अखिल भारतीय खनिज धातु मजदूर महासंघ का  10 वां त्रैवार्षिक अधिवेशन  4 व 5 मई  को  विश्नोई धर्मशाला बीकानेर में होगा। इसका  दो दिन तक चलने वाले अधिवेशन में राजस्थान, पं. बंगाल, बिहार, झारखण्ड, उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, महाराष्ट्र आदि राज्यों से भारतीय मजदूर संघ की खनन क्षेत्र में कार्यरत विभिन्न यूनियनो के पदाधिकारी तथा खनिज धातु मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय एवं विभिन्न प्रदेश पदाधिकारी भाग लेंगे। संवाददाता सम्मेलन में अधिवेशन की जानकारी देते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष राजवंश सिंह ने बताया कि  अधिवेशन को सफल बनाने के लिए संघ ने अलग अलग टीमें बनाकर उन्हें जिम्मेदारिया सौंपी है। सम्मेलन में असंगठित मजदूरों माइन्स की राष्ट्रीय नीति बनाने, मजदूरों की सामाजिक सुरक्षा के बारे, मजदूरों के न्यूनतम वेतन,अवकाश संबंधी प्रस्तावों पर मंथन किया जायेगा।  राष्ट्रीय महामंत्री अख्तर हुसैन ने बताया कि  अधिवेशन का उद्घाटन समारोह के प्रमुख अतिथि  सोमगिरी जी महाराज, विशिष्ठ अतिथि बजरंग लाल ओझा होंगे। अधिवेशन के स्वागताध्यक्ष लालचंद गौड़  होंगे।  समारोह की अध्यक्षता रामदौर सिंह क्षेत्रीय संगठन मंत्री भारतीय मजदूर संघ करेंगे।  इनके अलावा विभिन्न प्रदेशों की टे्रड यूनियनों के पदाधिकारी मौजूद रहेंगे। अधिवेशन में देश भर के संगठित तथा असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के कल्याण, सुरक्षा, रोजगार तथा जीवन स्तर में सुधार, चिकित्सा एवं पेंशन सुविधा आदि विभिन्न बिन्दूओं पर विस्तृत चर्चाएं एवं विभिन्न सत्र आयोजित करके अन्तत: सर्वसम्मति से विभिन्न प्रस्ताव पारित कर केन्द्र एवं राज्य सरकारों को भेजें जायेंगे। अधिवेशन में महामंत्रियों द्वारा यूनियनों के लेखा जोखा आदि विवरण रखे जायेंगे एवं उनका अनुमोदन किया जायेगा। अधिवेशन का समापन समारोह 5 मई  को अपरान्ह 3 बजे से होगा। जिसमें भारतीय मजदूर संघ के केन्द्रीय प्रतिनिधि अमरनाथ डोगरा तथा प्रदेश उपाध्यक्ष अमरसिंह सांखला संबोधित करेंगे। अधिवेशन का समापन भाषण प्रमोद कुन्द्रा अध्यक्ष राजस्थान खनिज धातु मजदूर महासंघ तथा उपाध्यक्ष भंवरसिंह राठौड़ एवं महामंत्री राकेश ओझा सम्बोधित करेंगे। इस अवसर पर  अखिल भारतीय खनिज धातु मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय महामंत्री देवेन्द्र सारस्वत व महासचिव राकेश ओझा भी उपस्थित थे।

Discusses the problems of workers 4 and 5 on 10th Triennial Conference