Monday, 12 April 2021

KhabarExpress.com : Local To Global News
  2148 view   Add Comment

बहनों ने की माला घोलाई, बाला गणगौर पूजन उत्सव 8 से

भाईयों के दीर्घायु एवं उत्तम स्वास्थ्य की कामना

बीकानेर, बहनों ने भाइयों के दीर्घायु एवं उत्तम स्वास्थ्य तथा मंगलकामनाओं को लेकर माला घोलाई की रस्म की। भाईयों के ललाट पर कुमकुम अक्षत से तिलक कर मुंह मीठा करवाकर गायर के गोबर से बने भभोलियों को सिर के ऊपर से सात बार घुमाकर पीछे की और फेंक दिया। होलिका दहन के समय इन भभोलियों को होलिका की आग में जला दिया जाएगा। मान्यता है कि बहने, भाईयों के पूरे वर्ष स्वस्थ्य रहने आने वाली बलाओ का हटाने के लिये माला घोलाई की रस्म का निर्वहन करती है। शहर मे पूरे दिन बहनों ने भाईयों के घर पंहुचकर माला घोलाई की।

’उठी-उठी गवर निदांडों खोल‘
सुयोग्य वर एवं मंगलमय जीवन की कामना के लिये 16 दिवसीय बाला गणगौर पूजन उत्सव धुलण्डी के दिन 8 मार्च से प्रारभ्भ होगा। बालिकाऐं व युवतिया होलिका दहन की राख से बनी पिण्डलियों को मिट्टी से बने पालसिये में रखकर 16 दिनों तक अबीर, गुलाल, इत्र, पुष्प इत्यादि के साथ पूजन करेगी। गणगौर को नींद उठाने के पारम्पारिक गीत ’उठी-उठी‘ गवर निदंाडों खोल‘‘ के साथ पूजन करेगी। घरों की छातो पर बालिकाऐं व युवतिया सामुहिक रूप से गवर पूजन के दौरान पारम्पारिक गणगौरी गीतों का गायन कर पूजन करेगी। इस दौरान बालिकाऐं अबीर गुलाल से छातों पर विभिन्न प्रकार के मांडणे भी प्रतिदिन चित्रित करेगी। 16 दिवसीय गणगौर पूजन उत्सव की पूर्णाहुति पर गवर को पूगाने की रस्म भी अदा की जायेगी। 
 

Tag

Share this news

Post your comment