राजस्थान सड़क नेटवर्क के मामले में देश का अग्रणी राज्य बनेगा— दिया कुमारी

केन्द्र सरकार ने जारी की स्वी​कृति— 
972.80 करोड़ रूपये की लागत से प्रदेश में 687 किलोमीटर सड़कों का होगा विकास
लगभग 385 करोड़ की लागत से 7 आरओबी/आरयूबी/फ्लाईओवर बनेंगे

जयपुर, 14 मार्च। केन्द्र सरकार ने प्रदेश में 31 सड़क परियोजनाओं के सुदृढ़ीकरण एवं चौड़ाईकरण के लिए 972.80 करोड़ तथा 4 आरओबी, 1 आरयूबी तथा 2 फ्लाईओवर निर्माण के लिए 384.56 करोड़ रूपये की स्वीकृति प्रदान की है। 

उप मुख्यमंत्री दिया कुमारी ने इस स्वीकृति के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री श्री नितिन गड़करी का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने बताया कि हमने केन्द्र सरकार को इस संबंध में प्रस्ताव भिजवाये थे जिसे तत्काल ही मंजूर करते हुए यह स्वीकृतियां जारी की गई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश कि डबल इंजन सरकार मुख्यमंत्री श्री भजनलाल शर्मा के नेतृत्व में विकसित राजस्थान के लक्ष्य को पूरा करने के लिए तेजी से आगे बढ़ रही है। केन्द्र सरकार के सहयोग से राजस्थान में विश्व स्तरीय सड़क नेटवर्क का विकास करवाया जा रहा है। इस स्वीकृति से प्रदेश की कई महत्वपूर्ण सड़कों का चौड़ाईकरण एवं सुदृढ़ीकरण होगा। जिससे आवागमन त्वरित होगा और प्रदेश के आर्थिक, सामाजिक और औद्योगिक विकास के नये आयाम स्थापित होंगे। इसके साथ ही आरओबी, आरयूबी एवं फ्लाईओवर के विकास से लोगों को जाम से निजात मिलेंगी और समय की बचत होगी। 

इन महत्वपूर्ण परियोजनाओं का ​होगा विकास
इस स्वीकृति से प्रदेश के 31 स्टेट हाई—वे, एमडीआर तथा धार्मिक श्रेणी की सड़कों की 687.47 किलोमीटर लंबाई का सुदृढ़ीकरण एवं चौड़ाईकरण किया जाएगा। इसके तहत अजमेर लोकसभा क्षेत्र में 45 करोड़ की लागत से 35.20 किलोमीटर की दो सड़कों, अजमेर तथा जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र में 90 करोड़ की लागत से 40 किलोमीटर की सड़क, अलवर—भरतपुर में 20 करोड़ की लागत से 20 किलोमीटर, भीलवाड़ा में 28.05 करोड़ की लागत से 18.70 किलोमीटर, बांसवाड़ा और डूंगरपुर में 32 करोड़ की लागत से 21 किलोमीटर, बीकानेर में 24 करोड़ की लागत से 16 किलोमीटर, चूरू में 20.18 करोड़ की लागत से 13 किलोमीटर, चित्तोड़गढ़ में 110 करोड़ की लागत से 69.90 किलोमीटर, धौलपुर—करौली में 16.67 करोड़ की लागत से 12 किलोमीटर, दौसा में 15 करोड़ की लागत से 15.50, जैसलमेर—बाड़मेर में 15 करोड़ की लागत से 29 किलोमीटर, जयपुर ग्रामीण में 40 करोड़ की लागत से 25 किलोमीटर, झुंझुनूं में 72.72 करोड़ की लागत से 60 किलोमीटर, जोधपुर में 31.21 करोड़ की लागत से 23 किलोमीटर, जालौर—सिरोही में 18.50 करोड़ की लागत से 13.50 किलोमीटर, कोटा में 15 करोड़ की लागत से 13.50 किलोमीटर, नागौर में 91.30 करोड़ की लागत से 83 किलोमीटर, पाली में 18.50 करोड़ की लागत से 10.50 किलोमीटर, राजसमंद में 19.60 करोड़ की लागत से 14 किलोमीटर, सीकर में 51.40 करोड़ की लागत से 38.50 किलोमीटर, टोंक—सवाई माधोपुर में 36 करोड़ की लागत से 18.07 किलोमीटर, उदयपुर में 18.75 करोड़ की लागत से 14.50 किलोमीटर, झालावाड़—बारां में 64.73 करोड़ की लागत से 55 किलोमीटर तथा अजमेर—भीलवाड़ा में 79.19 करोड़ की लागत से 27.6 किलोमीटर सड़कों का चौड़ाईकरण एवं सुदृढ़ीकरण किया जाएगा। 

जयपुर में एक आरओबी व आरयूबी व भरतपुर में 2 फ्लाईओवर बनेंगे—
जयपुर में नाड़ी का फाटक पर 86.89 करोड़ की लागत से 4 लेन आरओबी में अण्डरपास, सीतावाली फाटक और बेनाड़ फाटक के बीच 14.37 करोड़ की लागत से आरयूबी का निर्माण करवाया जाएगा। इसी प्रकार भरतपुर में हीरादास चौराहा पर 79.01 करोड़ की लागत से तथा बिजलीघर चौराहा पर 54.73 करोड़ की लागत से फ्लाईओवर का निर्माण किया जाएगा। कोटा में रामगंजमण्डी—झालावाड़ रेलवे लाईन पर सुकेत पीपलिया रोड़ पर 46.54 करोड़ की लागत से आरयूबी बनाया जाएगा। बीकानेर में श्रीडूंगरगढ़ बीदासर रोड़ पर 44.32 करोड़ की लागत से तथा डीडवाना—कुचामन में जयपुर कुचामन खाटू, तरनाव नागौर रोड़ पर 58.70 करोड़ की लागत से रेलवे आॅवर ब्रिज निर्मित करवाएं जाएंगे। 

——————

Post a Comment

Previous Post Next Post