शोभायात्रा धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ बीकानेर माहेश्वरी समाज ने मनाया महेश नवमी पर्व

बीकानेर, 16   June माहेश्वरी जाति ने उत्पत्ति दिवस महेश नवमी का पर्व बड़े ही उल्लासपूर्ण वातावरण में विभिन्न कार्यक्रमों के साथ मनाया। प्रेस-नोट जारी करते हुए श्रीकृष्ण माहेश्वरी मण्डल के प्रचार मंत्री शिव प्रसाद राठी ने बताया कि बीकानेर के सम्पूर्ण माहेश्वरी समाज के लोगों ने इस पर्व को सदैव की भांति संगठित होकर वार्षिकोत्सव के रूप में मनाया।

मण्डल अध्यक्ष सत्यनारायण राठी ने बताया कि महेश नवमी पर्व माहेश्वरी समाज का प्राकट्य दिवस है अर्थात् इस दिन से ही भगवान महेश के आशीर्वाद से हम भगवान महेश की संतान कहलाने लगे। महेश नवमी का पर्व प्रातः 8 बजे से देर रात्रि 11 बजे तक विभिन्न धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ बीकानेर में अलग-अलग स्थानों पर मनाया गया जिसमें न केवल बीकानेर माहेश्वरी संस्थाऐं अपितु सम्पूर्ण बीकानेर का माहेश्वरी समाज जिसमें सभी आयु वर्ग के बुजुर्ग, पुरुष-महिलाऐं एवं युवा वर्ग आदि ने बढ़-चढ़कर सहभागिता निभाते हुए भाग लिया।

मण्डल मंत्री सुशील करनाणी के अनुसार सर्वप्रथम मोहता मरूनायक चैक स्थित मण्डल कार्यालय में भगवान शिव परिवार की विधिपूर्वक पूजा एवं आरती की गई, उपस्थित समाज बन्धुओं को प्रसाद भी वितरण किया गया। तत्पश्चात् प्रातः 9 बजे मरूनायक मंदिर में परम्परा निर्वहन करते हुए पूर्व मंत्री गोपाल कृष्ण मोहता की उपस्थिति में कलम, दवात एवं तराजू का पूजन किया गया। प्रातः 10 बजे विश्वकर्मा गेट के बाहर स्थित बिन्नाणी बगेची में भगवान शिव का अभिषेक एवं आरती की गई।

मण्डल के उपमंत्री पवन कुमार राठी ने महेश नवमी पर्व कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि वार्षिकोत्सव के अन्तर्गत शाम 5 बजे डागा चैक स्थित महेश भवन से सचेतन झांकियों सहित भव्य शोभा यात्रा निकाली गई जिसमें मुख्य रूप से भगवान गणेश, भगवान शिव, नृसिंह भगवान, राम दरबार, शिव परिवार, हनुमान जी आदि की लगभग 15 सजीव झांकिया शामिल थी। यह शोभा यात्रा विभिन्न माहेश्वरी बाहुल्य क्षेत्र बिन्नाणी चैक, तेलीवाड़ा चैक, मोहता चैक, दम्माणी चैक, गोपीनाथ भवन, डागा चैक, बी.के. स्कूल, बिन्नाणी निवास, जस्सूसर गेट होते हुए माहेश्वरी सदन लक्ष्मीनाथ मंदिर सम्पन्न हुई। शोभा यात्रा में जहां एक ओर आगे-आगे बैंड की मधुर ध्वनि में भगवान के भजन हो रहे थे वही सचेतन झांकियों के साथ-साथ माहेश्वरी पुरुष-महिलाऐं, युवक-युवतियां निर्धारित ड्रेस कोड में भगवान महेश के नारो ‘‘जय महेश-जय महेश’’ से सम्पूर्ण वातावरण को भक्तिमय बना रहे थे। इस भव्य शोभायात्रा का एक ओर आकर्षण यह भी रहा कि इस शोभा यात्रा के बाहरी जिले से आये हुए 20 सदस्यों ने जगह-जगह अपनी अलग-अलग कला का प्रदर्शन करते हुए शोभा यात्रा को अधिक यादगार बना दिया। सम्पूर्ण शोभा यात्रा का मार्ग निर्देशन सदैव की भांति नारायण डागा एवं याज्ञवल्क्य दम्माणी ने किया। मण्डल के सक्रिय उपाध्यक्ष किशन चाण्डक के अनुसार बैंड बाजे के साथ निकाली गई शोभा यात्रा का विभिन्न माहेश्वरी मौहल्लों में न केवल पुष्प वर्षा के साथ स्वागत किया गया, इसके अलावा शीतल पेय पदार्थ शिकंजी, शर्बत, ठण्डाई, ठण्डी छाछ, लस्सी व आईसक्रीम से भी समाज बन्धुओं ने आतिथ्य सत्कार एवं स्वागत किया। उपमंत्री पवन कुमार राठी के अनुसार माखन भोग में आयोजित सांस्कृतिक एवं भक्तिमय भजन संध्या कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में गंगाशहर थाना वृत्ताधिकारी श्रीमती शालिनि बजाज एवं नीरज के. सर प्रमुख थे।


मण्डल के संगठन मंत्री रामकिशन डागा ने  बताया कि शाम 8 बजे से देर रात्रि 11 बजे तक पूगल रोड़ स्थित माखन भोग में जहां एक ओर सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुतियां दी गई वहीं माहेश्वरी समाज के गायक सम्राट कलाकारों ने अपनी ओर भजन एवं गीत प्रस्तुत कर माखन भोग परिसर को भक्तिमय बना दिया। आज की प्रस्तुतियों में मुख्य रूप से अनिता मोहता ने महेश वन्दना, गणेश वन्दना प्रस्तुत की वही पूर्व अध्यक्ष नारायण बिहाणी, संस्कार चैनल प्रमुख सुशील दम्माणी तथा भतमाल पेड़िवाल ने अपनी ओर से भजन सुनाए। इस अवसर पर बाहरी जिले से आये कलाकारों में भी अपनी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देकर के वहां उपस्थित माहेश्वरी बन्धुओं की भूरी-भूरी प्रशंसा प्राप्त की। इस अवसर पर सामूहिक महाप्रसाद का आयोजन भी रखा गया जिसमें उपस्थित सभी समाज बन्धुओं ने प्रसाद ग्रहण किया।

मण्डल कोषाध्यक्ष जगदीश कोठारी द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार कार्यक्रम के अन्तिम सोपान में मण्डल मंत्री सुशील करनाणी ने मंच के माध्यम से महेश नवमी पर्व पर एक दिवसीय आयोजित सभी कार्यक्रमों में प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से अपनी ओर से व्यवस्थाओं में सहभागिता निभाने वाले मण्डल कार्यकारिणी सदस्यों, कार्यकर्ताओं तथा पत्रकार बन्धुओं का आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित करते हुए माखन भोग के संचालक द्वारका प्रसाद राठी का विशेष आभार व्यक्त किया और प्रशासन द्वारा सदैव की भांति इस बार भी पूर्व कार्यक्रम से सम्बन्धी लिखित जानकारी देने के पश्चात् भी बिल्कुल भी सहयोग न मिलने पर चिंता एवं अप्रसन्नता जाहिर की।


आज के एक दिवसीय आयोजित सभी कार्यक्रमों में सभी माहेश्वरी संस्थाओं के पदाधिकारियों ने अपनी उपस्थित दर्ज करवायी, जिनमें मुख्य रूप से मगनलाल चाण्डक, घनश्याम कल्याणी, नारायण दम्माणी, याज्ञवल्क्य दम्माणी, बाबूलाल मोहता, द्वारका प्रसाद पच्चिसिया, ओमप्रकाश करनाणी, रमेश करनाणी, चन्द्रप्रकाश करनाणी, राजेश मोहता, राजेश बिन्नाणी, भंवरलाल राठी, नारायण बिहाणी, जगदीश कोठारी, रामकिशन डागा, शिव प्रसाद राठी, किशन चाण्डक, रामकुमार मूंधड़ा, श्याम सुन्दर चाण्डक (माहेश्वरी स्टूडियो), किशन लोहिया, रघुवीर झंवर, दीपक बिन्नाणी, चन्द्रकला कोठारी, माया लखोटिया, प्रिया चाण्डक, घनिष्ठा करनाणी आदि उपस्थित हुऐ। सम्पूर्ण सांस्कृतिक कार्यक्रम का संचालन रघुवीर झंवर द्वारा किया गया।

Post a Comment

Previous Post Next Post